चलती बस का ड्राइवर हुआ बेहोश तो ड्राइवर बन महिला ने बचाई यात्रियों की जान

महाराष्ट्र के पुणे में बस ड्राइवर हुआ बेहोश तो ड्राइवर बनकर महिला यात्री ने बचाई 24 यात्रियों की जान

पुणे: महिला ने बचाई बस यात्रियों की जान,
महाराष्ट्र के पुणे में एक तेज़ स्पीड से चलती बस के यात्रियों की साँसे उस समय गले में अटक गई, जब यात्रियों ने देखा कि बस का ड्राइवर को अचानक मिर्गी के दौरा पड़ गया और बस अनियंत्रित होकर इधर से उधर भागने लगी। ऐसी विकट परिस्थितियों में मौत सामने देख सभी यात्री घबरा गए। किसी को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वे क्या करें? इसी बीच एक 42 वर्षीय महिला यात्री बड़ी तेज़ी से अपनी सीट से उठकर आयी और बस का स्टेयरिंग थाम लिया।

योगिता सातव नाम की इस महिला ने इस बड़ी चुनौती का सामना करते हुए बस को लगभग 25 किलोमीटर तक ड्राइव करते हुए न सिर्फ़ बस में सवार 24 यात्रियों की जान बचाई बल्कि उसने बस चालक को भी समय पर इलाज के लिए हॉस्पिटल पहुँचाकर जान बचाने का काम किया है। हालाँकि इस घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि यह घटना 7 जनवरी की है जब वाघोली से लगभग 20 यात्री पिकनिक मनाने के लिए मोराची चिंचोली गए थे। जहाँ से शाम के समय लौटते हुए रास्ते में अचानक बस ड्राइवर को दौरा पड़ गया था।

इस संबंध में महिला योगिता सातव ने बताया कि जब बस ड्राइवर को दौरा पड़ने से अनियंत्रित होकर इधर उधर दौड़ने लगी तो उन्होंने घबराए हुए सभी यात्रियों से कहा कि “आप घबरायें नहीं वह स्टीयरिंग सम्भाल सकती हैं।” क्योंकि महिला का यह आत्मविश्वास इसलिए मज़बूत था कि वह कार चलाना जानती है। हालांकि महीला को कार के अलावा किसी बस या ट्रक के चलाने का कोई अनुभव नहीं था लेकिन फ़िर भी इस महिला यात्री ने जो अपनी सूझ-बूझ का परिचय देते हुए ख़ुद के साथ-साथ अन्य सभी 40 बस यात्रियों की बचाई।

यह भी पढ़ें-अखिलेश यादव ने कहा कैराना से नाहिद हसन के परिवार से ही होगा प्रत्याशी

अखिलेश,कैराना,नाहिद हसन,प्रत्याशी,

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]