सहारनपुर के सिविल हॉस्पिटल में मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद चली गई 27 मरीजों की आँखों की रोशनी- 27 people lost their eyesight after eye surgery in Saharanpur

सहारनपुर के सिविल हॉस्पिटल में मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद चली गई 27 मरीजों की आँखों की रोशनी- 27 people lost their eyesight after eye surgery in Saharanpur

सहारनपुर:
यूपी के जनपद सहारनपुर के सिविल हॉस्पिटल में एक बड़ा ही दुःखद और हैरान करने वाला मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यहाँ SBD सिविल हस्पताल में चिकित्सकों की लापरवाही से मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराने आये 27 मरीजों की आँखों की रोशनी चली जाने का समाचार है। जानकारी के मुताबिक़ SBD सिविल हस्पताल में विगत 2 दिसम्बर 2021 को कुछ लोगों का मोतियाबिंद का आपरेशन हुआ था, इस दौरान 27 लोगों की आँखों मे लेंस लगाये गए थे और उनको छुट्टी देकर घर भेज दिया गया था। [27 people lost their eyesight after eye surgery in Saharanpur]  27 people lost their eyesight after eye surgery in Saharanpur

लेकिम घर जाने के बाद इन लोगों की आँखों में सूजन आने और आँखों से बिलकुल भी दिखाई न देने की शिकायत पर परिजन मरीजों को हस्‍पताल में दिखाने लाये। मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि इन मरीजों को चिकित्सकों ने ठीक से देखे बग़ैर घर वापस भेज दिया। अब इन में से कुछ परिजन अपने मरीजों का इलाज स्थानीय प्राइवेट हस्पतालों में कराने पहुँचे और वहीं 8 मरीजों को इलाज हेतु चण्डीगढ़ PGI भेजा गया है [27 people lost their eyesight after eye surgery in Saharanpur]27 people lost their eyesight after eye surgery in Saharanpur

उधर जब इस घटना से नाराज़ कुछ हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने SBD सिविल हस्पताल और CMO आफिस के सामने हंगामा किया गया तो हॉस्पिटल की ओर से इस मामले की सुनवाई और जाँच के आदेश दिए जाने का आश्‍वासन देने की बात कही गई। इस संबंध में पीड़ितों के परिजनों का आरोप है कि “चिकित्सकों की लापरवाही के चलते ही उनके मरीजों आँखों की रोशनी चली गई है।”[27 people lost their eyesight after eye surgery in Saharanpur]

यह भी पढ़ें- अखिलेश यादव ने पूछा था कि इत्र व्यापारी के पास पैसा आया कहाँ से? तो पीएम मोदी और अमिट शाह ने दिया ये जवाबhttps://deshduniyatoday.com/akhilesh-yadav-attacks-on-bjp-in-piyush-jain-raid-case/

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]