Adhir-Murmu: अधीर रंजन द्वारा राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को ‘राष्ट्रपत्नी’ कहने पर बचा बवाल,रंजन चौधरी ने मानी ग़लती, लेकिन माफ़ी माँगने से किया इनकार

Adhir-Murmu- काँग्रेस के अधीर रंजन द्वारा राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को ‘राष्ट्रपत्नी’ कहने पर देश की राजनीति में बवाल मचा हुआ है।

नई दिल्ली: Adhir-Murmu- राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के विरुद्घ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में कांग्रेसी अधीर रंजन चौधरी घिरते नज़र आ रहे हैं। इस मुद्दे पर आज संसद में बीजेपी ने जमकर हंगामा काटा। बीजेपी नेता स्मृति इरानी ने कहा कि “काँग्रेस और अधीर रंजन चौधरी महिला विरोधी हैं, और सोनिया गाँधी को इस मामले पर माफ़ी माँगनी चाहिये।”

आपको बता दें कि लोकसभा में विपक्ष के नेता अधीर रंजन चैधरी ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को ‘राष्ट्रपत्नी’ कहा था। इस पर स्मृति ईरानी ने कहा कि “काँग्रेस ये बर्दाश्त नहीं कर पा रही है कि एक आदिवासी महिला देश के सर्वोच्च पद पर पहुँच गयी है।” स्मृति ईरानी ने इस मुद्दे को सेना से जोड़ते हुए कहा कि “काँग्रेस ने तीनों सेनाओं के सर्वोच्च कमाण्डर का भी अपमान किया है। (Adhir-Murmu)

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपत्नी कहने पर काँग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि “ये उनके मुँह से ग़लती से निकल गया था। लेकिन उनकी मंशा राष्ट्रपति का अपमान करना नहीं थी। उन्होंने कहा कि ग़लती तो हुई है लेकिन इस पर माफ़ी माँगने का तो कोई सवाल ही नहीं है, मैंने ग़लती से ‘राष्ट्रपत्नी’ कह दिया था।..अब अगर आप मुझे इसके लिये फाँसी देना चाहते हैं तो आप दे सकते हैं।” उन्होंने कहा कि “सत्ताधारी पार्टी जान-बूझकर साजिशन तिल से पहाड़ बनाने का प्रयास कर रही है।” (Adhir-Murmu)

अधीर रंजन ने आगे कहा कि “विजय चौक पर प्रदर्शन करने के दौरान वह राष्ट्रपति भवन जाने का प्रयास कर रहे थे। इसी दौरान उनके मुँह से ग़लती से ये शब्द निकल गया।” उन्होंने कहा कि “बाद में उन्हेंने स्थित के बारे में स्पष्ट करने का प्रयास किया, लेकिन तब तक इसे बड़ा मुद्दा बना दिया गया है।” लेकिन वहीं इस मुद्दे पर काँग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने कहा कि “अधीर रंजन पहले ही माफ़ी माँग चुके हैं।” (Adhir-Murmu)
यह भी पढ़ें- सोमालिया में हुए कई बम धमाकों में 19 लोगों की मौत,23 घायल, अल-शबाब आतंकी संगठन ने ली हमले की ज़िम्मेदारीSomalia Bomb Blast,World Hindi News

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]