age of marriage of girls- लड़कियों के विवाह की न्यूनतम आयु 21 वर्ष करने पर कैबिनेट की मन्ज़ूरी, सभी धर्मों पर लागू होगा क़ानून

Age of marriage of girls- लड़कियों के विवाह की उम्र 21 वर्ष पर कैबिनेट की मन्ज़ूरी, सभी धर्मों पर लागू होगा क़ानून

नई दिल्ली: Age of marriage of girls-
केन्द्रीय कैबिनेट ने बुधवार को देश में बड़े सुधारों से जुड़े विधेयकों को मन्ज़ूरी दे दी है जिसमें पहला बड़ा सुधार लड़कियों की शादी की उम्र से जुड़ा है। प्राप्त मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कैबिनेट ने लड़कों व लड़कियों के लिए विवाह की न्यूनतम आयु एक समान 21 वर्ष करने के विधेयक को मंज़ूरी दे दी है। यदि यह क़ानून लागू हुआ तो सभी धर्मों और वर्गों में लड़कियों की शादी की न्यूनतम उम्र बदल जाएगी।(age of marriage of girls)age of marriage of girls

बता दें कि लड़कियों के विवाह की न्यूनतम आयु पर विचार के लिए एक टास्क फ़ोर्स बनी थी जिसने अपनी रिपोर्ट बीते वर्ष दिसम्बर में नीति आयोग को सौंपी थी। इस टास्क फ़ोर्स ने लड़कियों की विवाह की आयु बढ़ाकर 21 वर्ष करने का पूरा प्लान सौंपा था जिस में इसे समान रूप से पूरे देश में और सभी वर्गों पर लागू करने की मज़बूत सिफ़ारिश की गई थी।

age of marriage of girls- इन 10 सदस्यीय की टास्क फ़ोर्स ने देश भर के जाने माने स्कॉलर्स,क़ानूनी विशेषज्ञों, नागरिक संगठनों से परामर्श कर वेबिनार के माध्यम से देश में सीधे महिला प्रतिनिधियों से बातचीत कर अपनी रिपोर्ट को बनाया गया था। यूनिसेफ़ (UNISEF) के अनुसार भारत में हर वर्ष 15 लाख लड़कियों के विवाह 18 वर्ष से कम आयु में हो होती है।

विवाह संबंधित दूसरा बड़ा सुधार:
केन्द्र की मोदी सरकार के कार्यकाल में विवाह से संबंधित यह दूसरा बड़ा सुधार है जो समान रूप से सभी वर्गों और धर्मों के लिए लागू होगा। इस से पहले कैबिनेट ने N.R.I मैरिज को 30 दिनों के अन्दर पंजीकृत कराने का बड़ा क़दम भी उठाया था। (age of marriage of girls)

इससे पूर्व वर्ष-1978 में हुआ था विवाह क़ानून में संशोधन:
टास्क फोर्स ने विवाह की आयु समान 21 वर्ष करने को लेकर 4 क़ानूनों में संशोधनों की सिफ़ारिश की है। लड़कियों की न्यूनतम आयु में आख़िरी परिवर्तन वर्ष-1978 में किया गया था और इस के लिए “शारदा एक्ट-1929” में बदलाव करके शादी की उम्र 15 से 18 वर्ष की गई थी।

यह भी पढ़ें- डोमिनिकन रिपब्लिक में प्राइवेट विमान क्रैश, 9 की मौत

 

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]