Agra Crime News: आगरा में RPF के दारोग़ा और 2 सिपाही फ़िरौती वसूलते हुए पकड़े गये रंगे हाथ, सोमवार को व्यापारी साले और जीजा को किया था अगवा

Agra Crime News: आगरा में RPF के दारोग़ा और 2 सिपाही फ़िरौती वसूलते हुए पकड़े गये रंगे हाथ, सोमवार को व्यापारी साले और जीजा को किया था अगवा

 

 

आगरा: Agra Crime News- बड़ी ख़बर उत्तर प्रदेश के आगरा से जहाँ ट्रेन में पैसेंजर्स की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाले RPF (रेलवे प्रोटेक्शन फ़ोर्स) के एक दारोग़ा और 2 सिपाही सुरक्षा की बजाय अपहरण और फ़िरौती वसूलने वाले गुंडा गैंग्स की तरह काम कर रहे थे। जिन्हें पुलिस ने रंगे हाथ फ़िरौती की रक़म वसूलते हुए गिरफ़्तार कर लिया है।

Agra Crime Newsमीडिया रिपोर्ट्स अनुसार यहाँ मलपुरा इलाक़े के अभयपुरा गाँव से सोमवार की देर रात इन आरोपियों ने घर में घुसकर एक व्यापारी साले और उसके जीजा का अपहरण कर लिया था। अपहरण करने के बाद इन्होंने व्यापारी के परिजनों से व्हाट्सएप काल करके 4 लाख रुपये की फ़िरौती माँगी थी। (Agra Crime News)

जब अपहरण और फ़िरौती का यह मामला पुलिस आयुक्त डॉक्टर प्रीतिंदर सिंह तक पहुँचा तो पुलिस आयुक्त ने इस मामले पर पुलिस टीम को पीछे लगा दिया। पुलिस टीम ने 2 घंटे में ही अपनी सूझबूझ के साथ त्वरित कार्यवाही करते हुए RPF के दारोग़ा और 2 सिपाहियों को फ़िरौती की रक़म वसूलते हुए गिरफ़्तार कर लिया। वहीं इस मामले में आरोपी दारोग़ा और 2 सिपाहियों को निलम्बित कर दिया है।

जानकारी के अनुसार मूलरूप से जलेसर के रहने वाला क़ासिम नाम का व्यक्ति 3 साल पहले अपने परिवार के साथ आगरा के मलपुरा इलाक़े के अभयपुरा गाँव में रह रहा है, और कपड़े की फेरी का काम करके अपने परिवार के साथ गुज़र बसर कर रहा है। 2 दिन पहले ही अलीगढ़ से उसके जीजा इक़रार भी यहाँ अपने साले के घर अभयपुरा आया हुआ था। (Agra Crime News)

मीडिया रिपोर्ट्स में व्यापारी क़ासिम के भाई साजिम के हवाले से बताया जा रहा है कि सोमवार की देर रात उसके भाई और जीजा दोनों घर में थे। सोमवार की देर रात लगभग 1:00 बजे सफ़ेद रंग की एक बोलेरो गाड़ी से 5 लोग पहुँचे, जिनमें 4 लोग पुलिस वर्दी पहने थे। यें लोग उसके भाई और जीजा को उठाकर ले गये थे।

इसके बाद मंगलवार को इन लोगों ने साजिम को क़ासिम के मोबाइल से व्हाट्सएप काल करके उसके भाई और जीजा को छोड़ने के एवज में 4 लाख रुपये की फ़िरौती की माँग की। कथित तौर पर साजिम किसी तरह 12 हज़ार रुपये का इंतज़ाम करके बतायी गयी जगह कैंट पुल के नीचे गया। वहाँ पुलिस की वर्दी में कई युवक मिले। (Agra Crime News)

साजिम ने 12 हज़ार रुपये की पेशकश करते हुए हाथ जोड़कर भाई और जीजा को छोड़ने का आग्रह किया, लेकिन बात नहीं बनी। साजिम ने वहाँ से वापस आकर रक़म का इंतज़ाम करने का प्रयास किया इतनी रक़म का इंतज़ाम नहीं ही सका। आरोपितों ने फ़िर दोबारा साजिम को व्हाट्सएप काल करके कहा कि अगर 2 लाख रुपये का इंतज़ाम नहीं किया तो वे उसके भाई और जीजा को मार देंगे।

परेशान साजिम को जब भाई और जीजा को छुड़ाने का रास्ता दिखाई नहीं दिया तो साजिम मलपुरा थाने जा पहुँचा और मलपुरा एसओ को पूरी घटना की जानकारी दी। यह मामला पुलिस आयुक्त डॉक्टर प्रीतिंदर सिंह के संज्ञान में आया और उन्होंने डीसीपी सत्यजीत गुप्ता को मामले में कार्यवाही करने के निर्देश दिये। (Agra Crime News)

इसके बाद तुरन्त पुलिस टीम ने अपना आपरेशन शुरु कर दिया। पुलिस ने साजिम को आरोपितों को रक़म का इंतज़ाम हो जाने की बात कहलवाई कि रक़म का इंतज़ाम हो गया है। यह सुनकर वर्दीधारी (आरोपियों) ने रक़म वसूलने के लिये साजिम को शमसाबाद रोड पर अमर होटल के नज़दीक बुलाया। साजिम ने यह बात पुलिस को बतायी और पुलिस ने रक़म वसूलने से पहले ही घेराबन्दी कर ली।

जब आरोपी साजिम से शमसाबाद रोड पर होटल के नज़दीक फ़िरौती की रक़म वसूलने पहुँचे तो जैसे ही उन्होंने रुपये से भरा बैग साजिम के हाथ से लिया तभी पुलिस द्वारा रंगे हाथ पकड़ लिया गया। तीनों आरोपी आगरा कैंट RPF थाने में तैनात थे। (Agra Crime News)
यह भी पढ़ें- अब रेलवे स्टेशन के हरे रंग को इस्लामिक रंग बता हिन्दू संगठनों ने छेड़ा विवाद, कहा मस्जिद जैसा दिखता है स्टेशनKarnataka-Green Railway Station Controversy

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]