Ajmer Dargah be the next issue? ज्ञानवापी के बाद अब अजमेर दरग़ाह पर उठी तथाकथित हिन्दुत्वादियों की निगाहे,कहा एकलिंग मन्दिर को क़ब्ज़ा कर बनायी गयी थी अजमेर की दरगाह?

Ajmer Dargah be the next issue? ज्ञानवापी के बाद अब अजमेर दरग़ाह पर उठी तथाकथित हिन्दुत्वादियों की निगाहे,कहा एकलिंग मन्दिर को क़ब्ज़ा कर बनायी गयी थी अजमेर की दरगाह?

अजमेर :
Ajmer Dargah be the next issue?- देश में हिन्दुत्वादियों द्वारा जारी मुस्लिमों की इबादतगाहों को निशाना बनाये जाने के अभियान की कड़ी में जहाँ अभी तक ज्ञानवापी मन्दिर को लेकर अभी तक कोई अन्तिम फ़ैसला तो नही आया है लेकिन इस अभियान की कड़ी में अब राजस्थान के अजमेर की प्रसिद्ध हजरत ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ दरगाह को लेकर भी मन्दिर का दावा किये जाने की आवाज़ उठ गयी है।

यहाँ ‘महाराणा प्रताप सेना’ के संस्थापक राजवर्धन सिंह परमार ने फेसबुक पर एक तस्वीर शेयर करते हुए पोस्ट के कैप्शन में लिखा कि ‘अजमेर की दरगाह में भी लोचा है’। राजवर्धन परमार का कहना है कि दरग़ाह के दरवाज़ों पर स्वास्तिक का क्या काम है,और इस्लाम के अनुसार स्वास्तिक चिन्ह तो नापाक है। उन्होंने कहा कि “यह दरग़ाह पृथ्वीराज चौहान द्वारा बनाया गया एकलिंग मन्दिर को क़ब्ज़ा करके बनायी गयी है। (Ajmer Dargah be the next issue?)

Ajmer Dargah be the next issue?अजमेर दरग़ाह पर किये गये इस दावे को लेकर “महाराणा प्रताप सेना संगठन अध्यक्ष द्वारा राजस्थान सीएम अशोक गहलोत को पत्र भी लिखा है। जिसमें उन्होंने (राजवर्धन परमार) अजमेर स्थित हजरत ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ दरगाह को एक प्राचीन मन्दिर बताया है। इस पत्र में दरग़ाह की दीवारों से हिन्दू धर्म से सम्बंधित कमल के फूल व स्वास्तिक जैसे चिह्न मिलने का भी दावा किया गया है।ये ही नहीं बल्कि पत्र में सीएम गहलोत को लिखे पत्र में यह अनुरोध भी किया गया कि इसका (दरग़ाह) SIT (भारतीय पुरातत्व विभाग) से सर्वेक्षण भी कराया जाये। (Ajmer Dargah be the next issue?)

साथ ही इस पत्र की प्रतिलिपि महामहिम राष्ट्रपति, राजस्थान के गवर्नर, केन्द्रीय मन्त्री जी किशन रेड्डी, अर्जुन मेघवाल व केन्द्रीय मन्त्री मीनाक्षी लेखी को भी भेजी गयी है। ‘महाराणा प्रताप सेना’ के अध्यक्ष राजवर्धन परमार ने इस मुद्दे को कोर्ट में ले जाने की भी बात कही है। ग़ौरतलब है कि इस से पूर्व ‘महाराणा प्रताप सेना’ ने राजधानी दिल्ली की 3 सड़कों के के भी नाम परिवर्तन की माँग की थी। इन में अकबर रोड का नाम परिवर्तन करके महाराणा प्रताप मार्ग, शाहजहाँ रोड का नाम बदलकर परशुराम मार्ग व हुमायूँ रोड का नाम परिवर्तन कर अहिल्याबाई होलकर करने की माँग की गई थी। नाम न परिवर्तन किये जाने की स्थिति में राजवर्धन परिहार ने बीजेपी के बहिष्कार करने की बात कही।

साथ ही ‘महाराणा प्रताप सेना’ संगठन आगरा के ताजमहल का नाम बदलकर तेजोमहल रखने की माँग भी कर रहा है। संगठन के अध्यक्ष राजवर्धन परमार ने कहा कि “हम आने इसी आने वाली 30 मई को लगभग4 -5 लाख लोग ताजमहल की ओर रुख करेंगे और ताजमहल परिसर के भीतर शिव चालीसा का पाठ करेंगे।” इनका कहना है कि ” ताजमहल में शिव चालीसा के पाठ की अनुमति के लिये प्रदेश के मुख्यमंत्री, स्थानीय प्रशासन व प्रदेश के डी.जी.पी को पत्र लिख दिया है।” (Ajmer Dargah be the next issue?)

महाराणा प्रताप सेना के अध्यक्ष ने कहा कि “यदि अनुमति भी नहीं भी मिलती है तो भी वे ताजमहल परिसर के भीतर जाकर इस कार्यक्रम को सम्पन्न करेंगे। उन्होंने पुलिस को भी कार्यक्रम को रोकने की चुनौती भी दे डाली। साथ ही महाराणा प्रताप सेना संगठन ने चेतावनी दी कि “असदुद्दीन ओवैसी के सभी आवासों पर गंगाजल छिड़ककर उसका शुद्धिकरण किया जायेगा। वहीं संगठन के अध्यक्ष राजवर्धन सिंह परमार ने असदुद्दीन ओवैसी के आवास के सामने शिव चालीसा पाठ करने की भी बात कही। (Ajmer Dargah be the next issue?)
यह भी पढ़ें- अफ़ग़ानिस्तान में हुए बम धमाकों में 14 की मौत और और 22 घायल,शिया समुदाय को निशाना बनाते हुए किया गया हमला

Bomb blast in Afghanistan: अफ़ग़ानिस्तान में हुए बम धमाकों में 14 की मौत और और 22 घायल,शिया समुदाय को निशाना बनाते हुए किया गया हमला

ऐसी न्यूज़ अपडेट अपने फ़ोन में पाने के लिए यहाँ क्लिक करके हमारे व्हाट्सएप्प ग्रुप से हदें

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]