उत्तर प्रदेश: भाजपा की सरकार न बनने की शर्त लगाकर अपनी बाइक हारे व्यक्ति को दी अखिलेश यादव ने नई बाइक- Akhilesh Yadav gave a new bike to the person who lost the bike in bet

उत्तर प्रदेश: भाजपा की सरकार न बनने की शर्त लगाकर अपनी बाइक हारे व्यक्ति को दी अखिलेश यादव ने नई बाइक- Akhilesh Yadav gave a new bike to the person who lost the bike in bet

बाँदा: 
यूपी के बाँदा जनपद के मटौंध थाना क्षेत्र के ग्राम बसहरी निवासी फेरी लगाने वाले अवधेश ने चुनाव से पहले अपने पड़ोसी से शर्त लगाई थी कि अगर 10 मार्च को बीजेपी की सीटें अधिक आयी तो  वह अपनी बाइक पड़ोसी के नाम कर देगा। लेकिन अवदेश 10 मार्च को अपने पड़ोसी से ये शर्त हार गया था और उसे अपनी बाइक शर्त के अनुसार पड़ोसी के नाम करनी पड़ गई थी। इसके साथ ही अवधेश का मोटरसाइकिल पर फेरी लगाने का काम भी बन्द हो गया था। (Akhilesh Yadav gave a new bike to the person who lost the bike in bet)

इसी बीच आज (शनिवार) की सुबह अवधेश के चेहरे पर उस समय ख़ुशी आयी जब समाजवादी पार्टी से जुड़े कुशवाहा समाज के नेता जगदीश कुशवाहा अवधेश कुशवाहा के दरवाज़े पर एक नई चमकती बाइक लेकर पहुँचे। नई मोटरसाइकिल पाकर अवधेश ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का आभार कोटि कोटि आभार जताते हुए कहा कि “अब वह फ़िर से अपना फ़ेरी लगाने का क़ारोबार शुरु कर सकेगा।” (Akhilesh Yadav gave a new bike to the person who lost the bike in bet)

पढें क्या है यह पूरा मामला : दरअसल यूपी के बाँदा ज़िले के मटौंध थानाक्षेत्र के बसहरी गाँव निवासी अवधेश कुशवाहा जो बाइक से फ़ेरी लगाकर गुज़र बसर करने का काम करता है उसकी और पड़ोस में रहने वाले टेम्पो चलाकर अपने परिवार का पालन पोषण करने बिलेटा सैनी के बीच यूपी विधानसभा चुनाव में गत 6 फ़रवरी को बातों ही बातों में एक शर्त लग गई थी। इस शर्त में बिलेटा सैनी ने यूपी चुनाव 2022 में बीजेपी के जीतने की और अवधेश कुशवाहा ने समाजवादी पार्टी के जीतने की बात कही थी। यहीं नहीं इन दोनों ने बक़ायदा सौ रुपये के स्टाम्प पेपर पर पक्की लिखा पढ़ी की भी प्रक्रिया हुई थी जिस में कुल 6 गवाहों के भी हस्ताक्षर कराये गये थे। (Akhilesh Yadav gave a new bike to the person who lost the bike in bet)

स्टाम्प पेपर क्या लिखी थी शर्त?: स्टाम्प पेपर पर लिखी गई शर्त के अनुसार अगर यूपी में बीजेपी की सरकार बनती है तो अवधेश कुशवाहा अपनी बाइक बिलेटा सैनी को देगा और अगर समाजवादी पार्टी की सरकार बनती है तो बिलेटा सैनी अपनी टेम्पो अवधेश कुशवाहा को दे देगा। बाक़ायदा इस स्टाम्प पर दोनों ने अपने अपने वाहनों के रजिस्ट्रेशन नम्बर भी लिखे थे। (Akhilesh Yadav gave a new bike to the person who lost the bike in bet)

लेकिन जब 10 मार्च को चुनाव नतीज़े आये तो बीजेपी की सब से ज़्यादा सीटें आने पर अवधेश कुशवाहा यह शर्त हार गया था और अपने कमिटमेंट के अनुसार अवधेश कुशवाहा ने अपनी बाइक बिलेटा सैनी के नाम कर दी थी। जब इस घटना की जानकारी सपा प्रमुख अखिलेश यादव को हुई तो अखिलेश यादव ने अवधेश कुशवाहा को लखनऊ बुलवाकर 1 लाख 10 हज़ार रुपये की आर्थिक मदद देने की बात करते हुए आइन्दा ऐसी कोई शर्त न लगाने की सख़्त हिदायत दी थी। (Akhilesh Yadav gave a new bike to the person who lost the bike in bet)

यह भी पढ़ें- ऑनलाइन गेम की लत में 13 साल के बच्चे ने हारे अपनी माँ के 40 हज़ार रुपये “I am Sorry माँ” लिखकर किया सुसाइड     Negative Side-effects of Online Game Addiction

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]