अलवर में पकड़ी गई एक कार यूनिवर्सिटी जो हाथ में पैसा आते ही दे देती थी ग्रेजुएशन,MCA डिग्रियां और डिप्लोमा-Alvar police caught the car university

अलवर में पकड़ी गई एक कार यूनिवर्सिटी जो हाथ में पैसा आते ही दे देती थी ग्रेजुएशन,MCA डिग्रियां और डिप्लोमा-Alvar police caught the car university

जयपुर:
राजस्थान के अलवर ज़िले में पुलिस ने एक ऐसी कार यूनिवर्सिटी चलाने वाले 3 युवकों को गिरफ़्तार किया है जो कार में पैसे लेते ही तत्काल हाथों में ग्रेजुएशन, MCA, DED, पॉलिटेक्निक और लाइब्रेरियन जैसी डिग्री, डिप्लोमा दे देते थे। इस मामले में अलवर पुलिस ने शनिवार को सुधीर कुमार यादव निवासी (शाहजहांपुर-यूपी), सुजीत कुमार (पूर्णिया बिहार) और सचिन कुमार (कृष्णा कॉलोनी-बिहार) को गिरफ्तार किया है। इन युवकों ने अभी तक लोगों को कितनी डिग्रीयां दी है और इसके एवज में लोगों से कितना धन वसूला है? पुलिस इसकी जाँच में जुटी है।

पकड़े गये इन तीनों युवकों से बरामद हुई कार में प्रवेश फॉर्म से लेकर परीक्षा की उत्तर शीट, डिग्रीयां और डिप्लोमा सर्टिफिकेट समीर विभिन्न सरकारी अधिकारियों की नक़ली मुहरें बरामद हुई हैं। कार से बरामद कई डायरियों में रुपयों के लेनदेन लेकर डिग्रियां बाँटने तक का हिसाब दर्ज है। जबकि पकड़े गए तीनों युवकों ने कहना है कि “उनका अलवर सहित राजस्थान प्रदेश व भारत की कई प्राइवेट यूनिवर्सिटीज़ के साथ टाइअप है और वे हाथों-हाथ डिग्रीयां और डिप्लोमा देने के बाद सम्बंधित यूनिवर्सिटीज़ में कागज़ी कार्यवाही पूरी करते हैं, ताकि रिकॉर्ड अपडेट हो सके।” (Alvar police caught the car university)

पकड़े गए इन युवकों का कहना है कि वे BBA, BCOM, PG.DCA, DED MCA, पॉलिटेक्निक और लाइब्रेरियन आदि डिग्रीयां और डिप्लोमा देते हैं और रुपया मिलने के तुरन्त बाद वहीं कार में आंसरशीट भरा लेते हैं। इसके बाद वह रिकॉर्ड को यूनिवर्सिटी में जमा कर देते हैं। जिससे आवश्यकता पड़ने पर रिकॉर्ड का मिलान किया जा सके। और यें डिग्रियां और डिप्लोमा फ़र्ज़ी न लगे। (Alvar police caught the car university)

राजस्थान की अलवर पुलिस को पकड़े गयेआरोपियों के पास से अनेक यूनिवर्सिटीज़ की 439 भरी हुई आंसरशीट, 850 ख़ाली आंसरशीट, 93 भरे हुए माइग्रेशन सर्टिफिकेट, 41 कॉलेज प्रमाणपत्र, TC व 91 अंकतालिकायें (मार्कशीट), 26 प्रोविज़नल सर्टिफिकेट्स, 4 ख़ाली प्रोविज़नल सर्टिफिकेट्स, 118 खाली माइग्रेशन सर्टिफिकेट्स, 37 खाली एप्लिकेशन फॉर्मस,18 चुरु यूनिवर्सिटी के लेटर हेड, 3 खाली एफिडेविट, 5 ख़ाली नोड्यूज़ सर्टिफिकेटस, 5 भरे हुए नोड्यूज़ प्रमाण पत्र, 22 फ़ीस की रसीदें, 10 ATM कार्ड्स, 7 क्रेडिट कार्डस, 1 लैपटॉप, 1 टेबलेट, 4 मुहरें और 4 हिसाब किताब रखने वाली की डायरियां बरामद हुई हैं।

यह भी पढ़ें- धर्म संसद बनाम सन्त सम्मेलन में ‘हिन्दू राष्ट्र घोषित हो भारत’ प्रस्ताव हुआ पारितPrayagraj Sant Sammelan

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]