28-29 मार्च को रहेगा भारत बन्द, भारत सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ बैंक और रेलवे के कर्मचारी रहेंगे हड़ताल में शामिल- Bharat Band

28-29 मार्च को रहेगा भारत बन्द, भारत सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ बैंक और रेलवे के कर्मचारी रहेंगे हड़ताल में शामिल– Bharat Band

नई दिल्ली: Bharat Band
केन्द्रीय ट्रेड यूनियनों ने भारत सरकार की नीतियों के विरोध में 28 व 29 मार्च को भारत बन्द का आह्वान किया है। इस भारत बन्द (Bharat Band) में बैंकिंग,बीमा क्षेत्र और वित्तीय क्षेत्र से जुड़े कर्मचारियों ने भी शामिल होने का निर्णय किया है। ऐसे में कुल 4 दिन बैंकिंग सेवायें प्रभावित रहेंगी। इस संबंध में ‘अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ’ ने फेसबुक के माध्यम से हड़ताल में सम्मिलित होने का ऐलान किया है।

बता दें कि 22 मार्च- 2022 को सेंट्रल ट्रेड यूनियनों के संयुक्त मंच की बैठक के बाद राष्ट्रव्यापी हड़ताल करने का आह्वान किया गया था। देश के विभिन्न राज्यों में तैयारियों का आंकलन करने के बाद यूनियनों ने कर्मचारी विरोधी, जनता विरोधी, किसान विरोधी, और देश विरोधी नीतियों के विरुद्ध 2 दिवसीय हड़ताल करने का आह्वान किया है। 2 दिनों के इस भारत बन्द (Bharat Band) को कई राजनीतिक दलों का समर्थन भी प्राप्त हो गया है। पश्चिम बंगाल में वामपन्थी पार्टियों ने भारत बन्द का समर्थन किया है।

किन क्षेत्रों में दिखेगा भारत बन्द का असर?
विदित हो कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण करने की भारत सरकार की योजना के साथ साथ बैंकिंग क़ानून संशोधन विधेयक-2021 के विरोध में ‘अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ’ हड़ताल में भाग ले रहे हैं। SBI (स्टेट बैंक ऑफ इंडिया) की तरफ़ से जारी एक बयान में कहा गया है कि “28 और 29 मार्च को होने वाली हड़ताल में बैंक बन्द रहेंगे। लेकिन बैंकों के पास जिन कर्मचारियों की पेंशन है जो कि सेवानिवृत्त होने वाले हैं, हड़ताल में शामिल होने पर प्रभावित नहीं होंगे। इस हड़ताल में कोयला, तेल, इस्पात, दूरसंचार, डाक, आयकर, तांबा और बीमा क्षेत्र जैसे विभिन्न क्षेत्रों के श्रमिकों के भाग लेने की आशा व्यक्त की जा रही है। इस भारत बन्द (Bharat Band) में इंडियन रेलवे और रक्षा क्षेत्र की यूनियनें देशभर में सैकड़ों स्थानों पर हड़ताल के समर्थन में जन लामबन्दी करेंगी।

यह भी पढ़ें- जानिये क्या वर्ष-1996 में नोटों पर अशोक स्तम्भ के स्थान महात्मा गाँधी की तस्वीर लगायी गयी थी?जानिये क्या वर्ष-1996 में नोटों पर अशोक स्तम्भ के स्थान महात्मा गाँधी की तस्वीर लगायी गयी थी? Hindi News, Today

You may also like...