केंद्र सरकार ने दिया 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों को मास्क न लगाने का सुझाव,जारी हुई नई गाइईलाइन-Covid’s new guideline for children

केंद्र सरकार ने दिया 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों को मास्क न लगाने का सुझाव,जारी हुई नई गाइईलाइन-Covid’s new guideline for children

नई दिल्ली:
विश्व में जब कोरोना का नया वेरिएंट ‘ओमिक्रॉन’ सामने आया था तो तब सब से ज़्यादा बच्चों के लिए घातक बताया गया था। वजह थी दुनिया के अधिकांश देशों में बच्चों का का वैक्सीनेशन न लगा होना। ऐसी परिस्थिति में लोग बच्चों को संक्रमण से बचाने हेतु लोग उन से कोविड प्रोटोकॉल का ख़ुद से ज़्यादा पालन करा रहे हैं। लेकिन अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को कोविड की नई गाइईलाइन जारी की है जिस में 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को मास्क न लगाने का सुझाव दिया गया है। (Covid’s new guideline for children)Covid's new guideline for children

कोविड की नई गाइईलाइन में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि “5 वर्ष और उस से कम आयु के बच्चों को मास्क की अनिवार्यता से छूट देते हुए मास्क न लगाने का सुझाव दिया है। साथ ही 6 वर्ष से 11 वर्ष के बच्चे अपनी सुरक्षा के दृष्टिगत माँ-बाप की सही देख-रेख में ही मास्क का प्रयोग कर सकते हैं। और 11 वर्ष से ऊपर की आयु के बच्चों को व्यस्कों की भांति ही मास्क का पालन अनिवार्य किया गया है। (Covid’s new guideline for children)Covid's new guideline for children

केंद्र सरकार ने 12 वर्ष से 14 वर्ष के बच्चों के कोविड वैक्सीनेशन के सम्बन्ध में कहा है कि ” यह फ़ैसला वैज्ञानिक प्रमाणों के आधार पर किया जायेगा और इस सम्बन्ध में अभी विचार-विमर्श जारी है।” वहीं नीति आयोग के सदस्य (हेल्थ) डॉक्टर वीके पॉल ने कहा है कि “वैज्ञानिक साक्ष्यों के आधार पर यह 12 से 14 वर्ष के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरु किया गया है और यह सब से संवेदनशील लोगों की रक्षा करने की धारणा पर आधारित है।” डॉक्टर वीके पॉल ने कहा कि “जैसे जैसे वैज्ञानिक साक्ष्य मिलते जायेंगे उसी आधार पर टीकाकरण का विस्तार होता जायेगा।” (Covid’s new guideline for children)Covid's new guideline for children
कोरोना की नई गाईडलाइन में केंद्र सरकार ने आगे कहा कि “18 वर्ष से कम आयु के मरीजों हेतु एंटीवायरल व मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज़ के प्रयोग की आवश्यकता नहीं है,अगर संक्रमण की गम्भीरता को देखते हुए स्टेरॉयड का उपयोग किया जाता है तो उसे 10 से 14 दिनों में कम किये जाने की आवश्यकता है।”

यह भी पढ़ें- एक नेता जो बनाना चाहते हैं 100 बार चुनाव हारने का रिकॉर्ड, अब तक हार चुके हैं 93 चुनावAgra Hasnuram Ambedkari

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]