मोबाइल एप्प्स वाली फाइनेंस कंपनियों से सावधान,यें बिछाती हैं ऐसे जाल कि बचना मुश्किल, पढ़िये यह चौंकाने वाली1 ख़बर- Dictatorship Of Mobile Loan Apps

Dictatorship Of Mobile Loan Apps-मोबाइल लोन एप्प्स कम्पनियों से रहे सावधान,यें बिछाती हैं ऐसे जाल कि बचना मुश्किल। पढ़िये यह चौंकाने वाली ख़बर

न्यूज़ डेस्क: Dictatorship Of Mobile Loan Apps- देश में कुकुरमुत्तों की तरह उगती जा रही बहुत सी मोबाइल लोन ऐप्स कम्पनियां तत्काल लोन उपलब्ध कराने का लुभावना ऑफर देकर लोगों को अपने चंगुल ऐसे फँसाती हैं कि जिसमें से इज़्ज़त के साथ लोगों का बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है। यें मोबाइल लोन ऐप्स कंपनियां (कुछ, सभी नहीं) ठीक वैसे ही सरकार के नियंत्रण से बाहर काम कर रही हैं, जैसे कभी भारत में सरकार द्वारा बैंकों के राष्ट्रीयकरण करने से पहले निजी बैंकों अथवा साहूकारों के हाथों जनता का भरपूर शोषण होता था।

Dictatorship Of Mobile Loan Apps

• कोविड लोकडाउन में बल्क रूप में आयी यें मोबाइल फ़ोन लोन ऐप्स-
कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान से देश में बढ़ती जा रही सरकार के नियंत्रण से बाहर वाली यें बेलग़ाम ऑनलाइन लोन ऐप्स जनता के साथ किस प्रकार शोषण और फ़्रॉड करती हैं, इसका एक ताज़ा उदारहण सामने आया है राजस्थान के जैसलमेर में जहाँ पर लोन ऐप्स कम्पनियां और सूदखोर साहूकारों ने आर्थिक परेशानी से जूझ रहे लोगों के शिकार करने के लिये अपना जाल बिछाकर रखा हुआ है। और इनके जाल में आसानी से फँस जाते हैं ग़रीब और छोटे व्यापारी। (Dictatorship Of Mobile Loan Apps)

• पाँच गुना ब्याज तक वसूलती हैं यें ऐप्स-
इन ऑनलाइन लोन ऐप्स वाले सूदखोरों अथवा साहूकारों का ब्याज इतना है कि एक छोटी सी राशि के लोन लेने के बाद एक आम आदमी अपना सब कुछ भी अगर बेच दे तो भी उनकी मूल राशि और ब्याज की पूर्ति नहीं कर पा सकता। क्यूँकि अक्सर इनका ब्याज़ बहुत ज़्यादा होता है। कुछ लोन कम्पनियां तो 5 गुना तक ब्याज़ वसूलती हैं। ऐसे ही एक मामले के चलते हाल ही में राजस्थान में एक व्यक्ति की आत्महत्या के बाद अब जैसलमेर के सोनार दुर्ग निवासी एक छोटे व्यापारी देवी सिंह का मामला सामने आया है। (Dictatorship Of Mobile Loan Apps)

Dictatorship Of Mobile Loan Apps

• बदनाम करने की धमकियां देकर लोगों को करती हैं टॉर्चर-
क्यूँकि देवी सिंह भी इन्ही लोन ऐप्स वाले सूदखोर साहूकारों के जाल में बुरी तरह फँस चुका है। इन सूदखोरों द्वारा देवी सिंह को बदनाम करने की धमकियां दी जा रही हैं। दरअसल सोनार दुर्ग निवासी व्यापारी देवी सिंह को कुछ पैसों की आवश्यकता आन पड़ी, तो उसने 6 जुलाई को जी.बी लैंड मोबाइल ऐप के ज़रिये 27 हज़ार रुपये का लोन लिया था। और उसे 7 दिनों में 27 हज़ार रुपये के 29 हज़ार रुपये इस फाइनेंस कम्पनी को लौटाने थे। (Dictatorship Of Mobile Loan Apps)

लेकिन जब 7 दिन का समय पूरा हुआ तो वह मोबाइल ऐप बन्द हो गयी। जिस के बाद व्यापारी देवी सिंह को लोन चुकता करने करने के लिये अलग-अलग मोबाइल फ़ोन नम्बरों से धमकियां दी जा रही हैं, और देवी सिंह को PhonePay के माध्यम से तुरन्त 29 हज़ार रुपये की बजाये 45 हज़ार रुपये यानी दोगुना पैसा जमा करवाने के लिये टॉर्चर किया जा रहा है। जबकि वह जी.बी लैंड ऐप बन्द हो चुकी है, जिससे लोन लिया गया था।

Dictatorship Of Mobile Loan Apps

अब जिस तरह से देवी सिंह को रोज़-रोज़ बदनाम करने और धमकियों भरे फ़ोन आ रहे हैं। देवीसिंह 27 हज़ार के 45 हज़ार रुपये भी चुकाने को तैयार है,लेकिन देवी सिंह असमंजस में है कि आख़िर वह यह पैसा किसे और किस तरह चुकाये? जब वह मोबाइल ऐप ही बन्द हो चुकी है। और देवी सिंह ही अकेला व्यक्ति नहीं जो इन बेईमान सूदखोरों के चक्कर में आया है। इस तरह के बहुत से केस सामने आ चुके हैं। (Dictatorship Of Mobile Loan Apps)

• यें फाइनेंस मोबाइल ऐप्स यूज़र्स की कांटेक्ट लिस्ट को करती हैं-
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार देवी सिंह का कहना है कि उसने जिस ऐप के माध्यम से लोन लिया था, फाइनेंस कम्पनी के जालसाजों ने उसके फ़ोन की कॉन्टेक्ट्स लिस्ट हैक कर रखी है। अब यें फ्रॉड़ी लोग किसी न्यूड लड़की के साथ देवी सिंह की फ़ोटो एडिट कर उनके फ़ोन से हैक किये मोबाइल नम्बरों पर भेजकर बदनाम कर रहे हैं।

Dictatorship Of Mobile Loan Apps

• मुम्बई में एक महिला को लोन एजेंट ने एडिटेड न्यूड तस्वीर कांटेक्ट लिस्ट में भेजकर किया गया बदनाम-
बीते महीने मुम्बई में एक महिला को ऐसी ही लोन कम्पनी के एजेंट द्वारा मात्र 3 हज़ार रुपये के लोन के लिये उसकी एडिटेड न्यूड फ़ोटोज़ महिला के फ़ोन से ऐप के ज़रिये चुराई गई कॉन्टैक्ट लिस्ट के नम्बरों पर भेजकर वायरल करने की घटना सामने आयी थी। (Dictatorship Of Mobile Loan Apps)
यह भी पढ़ें- क़ारोबारी ने SDM से फ़र्नीचर के बक़ाया पैसे क्या माँगे SDM ने घर पर चलवाया बुलडोज़र, SDM हुए सस्पेंडMoradabad SDM

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]