मँहगाई की मार: 1 अप्रैल से देश में पैरासिटामोल सहित 800 दवाईयां हो रही हैं मँहगी-Drug price hike

मँहगाई की मार: 1 अप्रैल से देश में पैरासिटामोल सहित 800 दवाईयां हो रही हैं मँहगी-Drug price hike

नई दिल्ली: 
Drug price hike- देश में बढ़ती महँगाई की मार झेल रही आम जनता पर अब दवाईयों की मँहगाई का भी बड़ा प्रहार होने जा रहा है। क्यूँकि 1 अप्रैल-2022 से देश में दवाईयां भी मँहगी होने जा रही हैं। इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के अनुसार ‘नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी ऑफ इण्डिया’ ने यह घोषणा की है कि 1 अप्रैल-2022 से दवाईयों में 10.7 प्रतिशत की वृद्धि हो जायेगी। NLEM (नेशनल लिस्ट ऑफ इसेंशियल मेडिसिंस) मतलब आवश्यक दवाओं की सूची में आने वाली लगभग 800 दवाईयों के मूल्य बढ़ने वाले हैं। (Drug price hike)

रिपोर्ट के अनुसार देश में दवाईयों का रेट बढ़ने का कारण WPI (थोक मूल्य सूचकांक) में बढ़ोतरी को माना जा रहा है। जिन दवाईयों के रेट बढ़ेंगे उनमें बुख़ार, वायरल, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, त्वचा रोग व एनीमिया के इलाज हेतु प्रयोग की जाने वाली दवाओं का नाम शामिल है। इस में पैरासिटामोल, फ़ेनोबार्बिटोन, फ़िनाइटोइन सोडियम, एजिथ्रोमाइसिन, सिप्रोफ्लोक्सासिन हाइड्रोक्लोराइड व मेट्रोनिडाज़ोल आदि दवाओं के नाम शामिल हैं। (Drug price hike)

बता दें कि आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची में आने वाली दवाइयों की वार्षिक बढ़ोतरी थोक WPI ( थोक मूल्य सूचकांक) के आधार पर होती है, इन आवश्यक दवाईयों को ख़ुदरा बिक्री के अतिरिक्त सरकार की कई स्वास्थ्य स्कीमों और सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में प्रयोग किया जाता है। 1 अप्रैल-2022 से दवाओं के मूल्य में वृद्धि देखने को मिलने लगेगा। (Drug price hike)

यह भी पढ़ें- योगी आदित्यनाथ ने आज मुख्यमन्त्री पद की ली शपथ, इसके अलावा 2 उप-मुख्यमन्त्री, 18 कैबिनेट मन्त्री, 14 स्वतन्त्र प्रभार राज्य मन्त्री, 20 राज्य मन्त्री, पूरी लिस्ट देखेंUP Cabinet Minister List 2022

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]