कर्नाटक राज्य बना हिन्दुत्व की प्रयोगशाला,अब यहाँ से चलेगा मुस्लिमों से ईदगाहों को हथियाने का अभियान-Eidgah Controversy in Bangaluru

कर्नाटक राज्य बना हिन्दुत्व की प्रयोगशाला,अब यहाँ से चलेगा मुस्लिमों से ईदगाहों को हथियाने का अभियान-Eidgah Controversy in Bangaluru

बेंगलुरू: Eidgah Controversy in Bangaluru-गुजरात के बाद अब कर्नाटक देश के एक ऐसे राज्य का रूप ले चुका है, जहाँ से एक के बाद एक लगातार दक्षिण पंथियों द्वारा मुस्लिम विरोधी अभियान चलाये जा रहे हैं। कभी हिजाब विवाद, कभी फ़ल जिहाद, कभी आर्थिक जिहाद कभी कोई तथाकथित जिहाद के नाम पर ।मुस्लिम विरोधी अभियान चलाये जाते हैं।

इन मुस्लिम विरोधी अभियानों की कड़ी में अब हिन्दुत्व की प्रयोगशाला कर्नाटक में हिन्दुत्वादियों द्वारा ईदगाहों को हथियाने का अभियान शुरु हो गया है। इस सिलसिले में हिन्दुत्वादियों की कई बैठकें हो चुकी हैं, जिनमें निर्णय लिया गया है कि ईद के मैदान में हिन्दुओं को हिन्दू त्योहार मनाने की अनुमति मिलनी चाहिये।

इस सम्बंध में बेंगलुरू के चामराजपेट क्षेत्र में स्थित जंगमा मठ में भी हिन्दू संगठननों द्वारा बैठक आयोजित की जा चुकी है। जिसमें हिन्दुत्वादियों द्वारा की माँग की गई है कि बेंगलुरु के चामराजपेट ईदगाह मैदान को सभी के लिये खेल का मैदान बना देना चाहिये। इस ईदगाह मैदान पर वक़्फ़ बोर्ड के दावों को चुनौती देने के साथ साथ क़ानूनी लड़ाई लड़ने के लिये एक या दो नहीं बल्कि कुल 25 हिन्दुत्वादी संगठनों ने स्थानीय समूहों के साथ हाथ मिलाया है।

बेंगलुरु के इस ईदगाह मैदान को सभी के लिये खेल के मैदान के रूप में बनाये रखने की आवश्यकता के लिये हिन्दुत्वादियों द्वारा लोगों में जागृति पैदा करने हेतु एक संगठन ‘चामराजपेट’ में डोर-टू-डोर एक अभियान भी चलाया जा रहा है। ‘चामराजपेट’ बेंगलुरु के एक मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है। इसलिये इस क्षेत्र को बेंगलुरू का संवेदनशील क्षेत्र माना जाता है। (Eidgah Controversy in Bangaluru)

हालांकि इस अभियान की शुरुआत BBMP ने की थी, BBMP ने दावा किया था कि यह ईदगाह मैदान उसकी अपनी उसकी सम्पत्ति है” लेकिन लेकिन बाद में इस दावे को ख़ारिज कर दिया गया। जिसके बाद हिन्दुत्वादी संगठनों ने BBMP की ख़ूब आलोचना की। वहीं कुछ संगठनों द्वारा प्रदेश की सत्तारूढ़ बीजेपी सरकार से इस मामले में हस्तक्षेप करने आग्रह करते हुए इस मसले का हल करने का आह्वान किया।

वहीं कुछ हिन्दुत्ववादी संगठनों के कार्यकर्ताओं द्वारा यह भी कहा जा रहा है कि मुसलमानों को सालभर में दो ईद की नमाज़ अदा करने की अनुमति दी जानी चाहिये और शेष दिनों में इस ईदगाह मैदान को जनता के लिये खेलने के मैदान के रूप में प्रयोग की अनुमति दी जानी चाहिये। वहीं चामराजपेट ‘सिटीज़न फेडरेशन’ ने चामराजपेट क्षेत्र में आगामी 12 जुलाई को बन्द का आह्वान किया है। (Eidgah Controversy in Bangaluru)

क्योंकि 12 जुलाई को हिन्दुत्वादी संगठनों के कार्यकर्ताओं और स्थानीय संगठनों द्वारा बेंगलुरू के सिरसी सर्कल (स्थान का नाम) से ईदगाह मैदान तक एक विशाल मोटरसाइकिल रैली का आयोजन करने जा रहे हैं। (Eidgah Controversy in Bangaluru) —[आईएएनएस]
यह भी पढ़ें- अजब-ग़ज़ब, सोने की लुटेरी चींटियां लूट ले गई गोल्ड की चेन, देखें यह 1 Amazing वायरल वीडियोGold Chain Robber Ants

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]