क़ुतुब मीनार से हटेंगी 12-वीं सदी से लगी हिन्दू देवता गणेश की 2 मूर्तियां, MNA ने ASI को यें मूर्तियां हटाने के लिये कहा- Ganesh idols will be removed from Qutub Minar

नई दिल्ली: Ganesh idols will be removed from Qutub Minar- NMA (राष्ट्रीय स्मारक प्राधिकरण) ने ASI (भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण) से क़ुतुब मीनार परिसर में 12-वीं सदी से लगी 2 हिन्दू देवता गणेश की मूर्तियों को हटाने के लिये कहा है। अंग्रेजी अख़बार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ में पहले पन्ने पर छपी ख़बर के अनुसार NMA के अध्यक्ष का कहना है कि “यें मूर्तियां जहाँ पर लगी हैं वह अपमानजनक है और इन्हें यहाँ से राष्ट्रीय संग्रहालय में भेज दिया जाना चाहिये।” (Ganesh idols will be removed from Qutub Minar)

Ganesh idols will be removed from Qutub Minar

दरअसल पिछले महीने ASI (भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण) को भेजे गये पत्र में NMA (राष्ट्रीय स्मारक प्राधिकरण) ने कहा था कि “इन मूर्तियों को राष्ट्रीय संग्रहालय में सम्मानजनक स्थान दिया जाना चाहिये जहाँ ऐसी प्राचीन वस्तुओं को प्रदर्शित करने का प्रावधान है।” बता दें कि NMA और ASI यें दोनों ही विभाग संस्कृति मंत्रालय के अन्तर्गत आते हैं। (Ganesh idols will be removed from Qutub Minar)

हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार ASI के अधिकारियों ने इस संबंध में अभी तक अपनी ओर से कोई टिप्पणी नहीं की है। लेकिन NMA प्रमुख तरुण विजय ने इस पत्र की पुष्टि की है। तरुण विजय जो भाजपा के नेता और पूर्व राज्यसभा सांसद भी हैं उन्होंने इस मामले पर अपने एक बयान में कहा है कि ”मैं कई बार उस स्थान पर गया हूँ और मैंने महसूस किया है कि मूर्तियों की (मौजूदा) जगह अपमानजनक है।” (Ganesh idols will be removed from Qutub Minar)

Ganesh idols will be removed from Qutub Minar

भाजपा नेता तरुण विजय ने कहा कि “स्वतन्त्रता के बाद हम ने उप-निवेशवाद के निशानों को मिटाने के लिये इण्डिया गेट से ब्रितानवी राजाओं और रानियों की मूर्तियां हटायी हैं, और सड़कों के नाम बदले हैं। अब हमें उस सांस्कृतिक नरसंहार को उलटने के लिए काम करना चाहिये जो हिन्दुओं ने मुग़ल शासकों के हाथों झेला था।”

तरुण विजय ने कहा कि “इन 2 मूर्तियों को ‘उल्टा गणेश’ और ‘पिंजरे में गणेश’ कहा जाता है और यें मूर्तियां क़ुतुब मीनार के परिसर में लगी हैं। इन मूर्तियों को जो जगह दी गई है वह भारत के लिये अवमानना का प्रतीक है और उस में सुधार की आवश्यकता है।” बता दें कि इन मूर्तियों में से एक ‘उल्टा गणेश’ की मूर्ति क़ुतुब मीनार परिसर में बनी ‘कु़व्वत-उल-इस्लाम’ मस्जिद की दक्षिण की तरफ़ बनी दीवार पर लगी है जबकि दूसरी गणेश की मूर्ति जो लोहे के पिंजरे में है वह भी इसी मस्जिद के समीप लगी हैं। (Ganesh idols will be removed from Qutub Minar)

यह भी पढ़ें- गाज़ीपुर: पुलिस ने माहौल बिगाड़ने का प्रयास करने वाले भगवाधारी युवकों की करतूत पर स्वतः लिया संज्ञान, मस्जिद में घुसकर भगवा झण्डा फ़हराने पर मामला किया दर्जHindu men put up flag on mosque in Ghazipur UP

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]