Ghaziabad PHD Student Murder: ग़ाज़ियाबाद में मकान मालिक ने 1.5 करोड़ रुपये के लालच में PHD कर रहे छात्र के 4 टुकड़े करके गंगनहर में बहाया, 2 महीने तक चलाता रहा छात्र का फ़ोन

Ghaziabad PHD Student Murder: ग़ाज़ियाबाद में मकान मालिक ने 1.5 करोड़ रुपये के लालच में PHD कर रहे छात्र के 4 टुकड़े करके गंगनहर में बहाया, 2 महीने तक चलाता रहा छात्र का फ़ोन

 

 

ग़ाज़ियाबाद: Ghaziabad PHD Student Murder- उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ियाबाद से एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आयी है। यहाँ एक मकान मालिक ने अपने PHD कर रहे एक अनाथ किरायदार छात्र से बिजनेस के लिये 60 लाख रुपये पहले उधार लिये और फ़िर उधार चुकाना न पड़े साथ ही बाक़ी के पैसे भी हड़पने के लालच में छात्र की हत्या करके उसके शव के 4 टुकड़े करके नहर में फेंक देने की घटना सामने आयी है।Ghaziabad PHD Student Murder

मीडिया रिपोर्ट्स अनुसार यह दिल दहलाने वाली घटना 2 माह पूर्व हुई थी लेकिन घटना का खुलासा अब हुआ है। पुलिस ने इस मामले में मकान मालिक उमेश शर्मा सहित 2 अन्य लोगों को हिरासत में लिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार मोदीनगर निवासी अंकित खोकर (मृतक) के माँ बाप नहीं थे, और वह अपनी पुश्तैनी ज़मीन-जायदाद बेचकर मोदीनगर में एक किराये के मकान में रह रहा था। (Ghaziabad PHD Student Murder)

मकान मालिक ने उसकी विगत 6 अक्टूबर को PHD छात्र अंकित की हत्या कर दी और उसके शव के 4 टुकड़े करके गंगनहर में बहा दिये थे। इस मामले में अंकित खोकर के मकान मालिक उमेश शर्मा सहित 2 लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। जानकारी के अनुसार अंकित खोकर लखनऊ की डॉक्टर के बी०आर० अम्बेडकर यूनिवर्सिटी में PHD कर रहा था, और पिछले 3 महीनों से मोदीनगर के राधा एन्क्लेव में एक किराये के मकान में रह रहा था।

बताया जा रहा है कि उसने अपनी बागपत में पुश्तैनी ज़मीन-जायदाद बेची हुई थी, और जिससे उसके बैंक खाते में लगभग 1.5 करोड़ रुपये आ गये थे। इसकी भनक लगते ही मकान मालिक की नीयत ख़राब हो गयी। पहले मकान मालिक उमेश शर्मा ने अंकित से 60 लाख रुपये बिजनेस के लिये उधार लिये, फ़िर बाक़ी की रक़म भी हड़पने और उधार भी न चुकता पड़े इसके लालच में अंकित हत्या कर दी। (Ghaziabad PHD Student Murder)

दो महीने बाद यह मामला तब पकड़ में आया जब अंकित खोखर के रूपेश और अन्य दोस्त जो अक्सर अंकित से व्हाट्सअप पर चैट करते रहते थे। उन्होंने चैटिंग के दौरान पाया कि अंकित चैट तो करता है , लेकिन फोन क्यों नहीं उठाता? साथ ही दोस्तों ने देखा कि अंकित के चैट मैसेज में स्पेलिंग मिस्टेक हैं, जो पहले नहीं होती थी। यह देखकर दोस्तों को आभाष हो गया कि अंकित का फ़ोन कोई और ही चला रहा है। (Ghaziabad PHD Student Murder)

इसके बाद अंकित के दोस्त रूपेश व अन्य दोस्त अंकित खोकर से मिलने मोदीनगर आ गये, लेकिन जब उन्हें वहाँ अंकित नहीं मिला तो उन्होंने 12 दिसम्बर को मोदीनगर थाने में अंकित की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी। मामले की छानबीन में पुलिस ने खुलासा किया कि अंकित खोकर की हत्या करने के बाद उसका मकान मालिक उमेश ही 2 महीने से अंकित का फोन चलाता रहा है, ताकि किसी को कोई शक न हो और समय समय पर अंकित के एकाउंट से पैसे ट्रांसफर करता रहे।

क्योंकि अंकित के मोबाइल फोन पर इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा एक्टिवेट थी, इसी इंटरनेट बैंकिंग सुविधा के ज़रिये मकान मालिक उमेश शर्मा ने पिछले 2 महीनों में अंकित के बैंक खाते से और 40 लाख रुपये की रक़म अपने बैंक खाते में ट्रांसफर कर ली थी। पुलिस की जाँच के अनुसार अब अंकित के बैंक खाते में मात्र 10 लाख रुपये ही शेष बचे हैं। (Ghaziabad PHD Student Murder)

अब जहाँ पुलिस की कई टीमें अंकित खोकर के शव की तलाश में जुटी हैं। वहीं घटना के सबूत इकट्ठा करने के लिये फील्ड यूनिट की फॉरेंसिक टीम ने जब अंकित खोकर के कमरे की जाँच पड़ताल की तो कमरे से पुलिस को कुछ खून के धब्बे और बालों के कुछ टुकड़े मिले हैं। पुलिस हिरासत में लिये लोगों से पूछताछ कर रही है।
यह भी पढ़ें- एजेंडे के तहत 9 वर्षो में 64 मुस्लिम लड़कियों का धर्म परिवर्तन कराकर हिन्दू लड़कों से शादी कराने वाले पण्डित ने बताया अपनी जान को ख़तराBareilly News

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]