यूपी के बरेली में 10 साल के बच्चे और उसकी माँ ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, पाया हुआ रुपयों से भरा बैग किया वापस- Good News of mother and son honesty from Bareilly

  • यूपी के बरेली में 10 साल के बच्चे और उसकी माँ ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, पाया हुआ रुपयों से भरा बैग किया वापस- Good News of mother and son honesty from Bareilly

बरेली : 22 अप्रैल-2022
Good News of mother and son honesty from Bareilly-उत्तर प्रदेश के बरेली जनपद से एक ऐसे 10 के बच्चे और उसकी माँ की ईमानदारी की मिसाल सामने आयी है जो एक बिल्कुल ही ग़रीब परिवार से हैं। लेकिन शायद हम इस बच्चे और उसकी माँ को जो ग़रीब परिवार से बताकर सम्बोधित कर रहे हैं वह ग़लत है। क्योंकि जैसे इस बच्चे और इसकी माँ ने इतना बड़ा पुनीत और सराहनीय कार्य किया हो वह ग़रीब नहीं बल्कि ईमानदारी की दौलत से बहुत अमीर हैं। (Good News of mother and son honesty from Bareilly)

दरअसल बरेली के इस 10 वर्षीय मासूम मुस्लिम बच्चे ‘हन्नान’ को रास्ते में एक 5 लाख रुपए की रक़म से भरा बैग मिला था। यह नोटों से भरा बैग मिलने के बाद हन्नान ने उसी स्थान पर खड़े होकर बैग मालिक का काफ़ी इन्तज़ार और तलाश किया मगर वह नहीं मिला। इसके बाद हन्नान ने घर जाकर यह बैग अपनी माँ को पूरी बताते हुए दे दिया। लेकिन इस माँ ने भी ईमानदारी की बड़ी मिसाल क़ायम करते हुए बेटे को तुरन्त यह बैग इसके मालिक को ढूँढकर वापस करने का आदेश दिया।

अपनी माँ के आदेश पर बच्चा हन्नान दोबारा फ़िर से उसी जगह पहुँचा जहाँ से वह बैग मिला था। काफ़ी देर तक धूप में खड़े होकर बच्चे ने बैग मालिक के आने का इन्तज़ार किया। अन्ततः बहुत देर बाद बैग का मालिक बैग की तलाश में उसी स्थान पर आ ही गया। और बच्चे ने बैग मालिक ठेकेदार को उसका बैग उसके सुपुर्द कर दिया। (Good News of mother and son honesty from Bareilly)

बता दें कि बरेली कैंट थानाक्षेत्र की ‘ठिरिया निजावत खां’ निवासी बच्चे हन्नान के पिता एक मामूली से ऑटो मैकेनिक हैं। परिवार के आर्थिक हालात बहुत अच्छे नहीं हैं लेकिन साबरी पब्लिक स्कूल में कक्षा 6 में पढ़ने वाले बच्चे हन्नान और उसकी ‘माँ’ की ईमानदारी से पता चलता है कि यह परिवार मानवता के धन से बहुत धनी परिवार है। इसीलिए नगर पंचायत ही नहीं बल्कि बरेली के आस पड़ोस के गाँव में भी इस बच्चे और माँ की ख़ूब प्रसंशा हो रही है।

बच्चे हन्नान ने बताया कि उसकी माँ ने बैग खोलकर पैसे ज़रूर देखें थे मगर बैग में नोटों के बंडल देखने के बाद बोलीं कि जिसके यह गिरे होंगे उसका क्या हाल हो रहा होगा? यह सोचकर तुरन्त उस नेक माँ ने बेटे को उसके मालिक को ढूँढकर बैग वापस करने की बात कही और हन्नान घर से बैग लेकर मालिक की तलाश में निकल गया। और उसने काफ़ी देर तक तलाश करने के बाद बैग मालिक फिरासत हैदर खां को बैग वापस कर दिया। (Good News of mother and son honesty from Bareilly)

इस बारे में ठेकेदार फिरासत हैदर खां ने बताया कि “वह ‘ठिरिया निजावत खां’ (स्थान का नाम) कार द्वारा ये थे लेकिन सड़क काफ़ी संकरी होने के चलते उन्होंने ऑटो पकड़ लिया। रक़म का बैग उनके कपड़ों के बैग के अन्दर रखा था लेकिन रास्ते में उस कपड़ों के बैग का मुँह कब खुलकर उसमें से नोटों से भरा बैग कब नीचे गिर गया पता ही नहीं चला। लेकिन कुछ दूर जाने के बाद जब उन्हें बैग गिरने का पता चला तो वह वापस बैग की खोज करने वापस आये लेकिन रास्ते में बैग नहीं मिला था। (Good News of mother and son honesty from Bareilly)

Farhad Pundir (Farmat)
रिपोर्ट : फ़रहाद पुण्डीर (फरमात)

यह भी पढ़ें- आधार कार्ड की फोटो कॉपी लेकर फ्री में बांट रहे थे मीट, शामली से दो युवक हिरासत मेंShamli free Chicken News in Hindi

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]