Hindi News: जिस के लिये टीवी चैनलों ने पत्रकारिता के धर्म को छोड़ा, अब उसी सरकार ने झूठे,बड़बोले और चापलूस चैनलों को लताड़ा

  • Hindi News: जिस के लिये टीवी चैनलों ने पत्रकारिता के धर्म को छोड़ा, अब उसी सरकार ने झूठे,बड़बोले और चापलूस चैनलों को लताड़ा

नई दिल्ली: 
Hindi News-कुछ टीवी चैनलों की झूठी, भ्रामक, उकसाऊ और मक्खन मलाई वाली ग़ैर ज़िम्मेदाराना पत्रकारिता करने के चलते आज जहाँ वैश्विक स्तर पर भारतीय मीडिया को चाटुकारिता और झूठ के पुलिंदे का ख़िताब मिल चुका है। वहीं अब भारत सरकार ने भी अपने इन बदनाम न्यूज़ चैनलों को भी झूठे, बड़बोले, सनसनीखेज़ और भ्रामक कंटेंट्स दिखाने पर कड़ी फटकार लगाई है। (Hindi News, Government’s instructions to TV channels)

 

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार ने इन कुछ टीवी चैनलों को एक चेतावनी देते हुए कहा है कि “अभी भी वक़्त है सुधर जाओ वरना केबल टेलीविज़न नेटवर्क (विनियमन) अधिनियम- 1995 में निर्धारित प्रावधानों के तहत ऐसे सभी गाइडलाइंस के विरुद्ध सामग्री प्रसारित करने वाले चैनलों अथवा कार्यक्रमों के प्रसारण को प्रतिबंधित किया जा सकता है। (Hindi News, Government’s instructions to TV channels)

दरअसल सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा जारी एडवाइज़री में मौजूदा दौर में छिड़ी रूस और यूक्रेन जंग और दिल्ली के जहाँगीरपुरी में हुई हिंसा के बाद टीवी चैनलों की अप्रामाणिक, भ्रामक , सनसनीखेज़ और अस्वीकार्य भाषा वाली कवरेज पर कड़ी आपत्ति जताई गई है। सूचना प्रसारण मंत्रालय ने कहा कि “यदि यदि यें चैनल्स अपने अन्दर कोई सुधार नहीं लाते और मंत्रालय को आवश्यकता पड़ेगी तो इन चैनलों या कार्यक्रम के प्रसारण को प्रतिबंधित भी किया जा सकता है।” (Hindi News, Government’s instructions to TV channels)Hindi News, Government's instructions to TV channels

बता दें कि यूक्रेन पर रूस के बीच छिड़ी जंग और हाल ही में हुई दिल्ली की जहाँगीरपुरी हिंसा के बाद भारत के कई मेन स्ट्रीम मीडिया के चैनलों ने अपनी न्यूज़ कवरेज में ऐसी भाषा का प्रयोग किया है जिस से देश का सामाजिक तानाबाना बिगड़ने की आशंका बनी रहती है। ऐसी परिस्थिति में सूचना प्रसारण मंत्रालय ने अपनी एडवाइज़री में कहा कि “कुछ चैनल घटनाओं को इस प्रकार से कवर कर रहे हैं जो अप्रमाणिक, भ्रामक, सनसनीखेज़ ढंग से और सामाजिक रूप से अस्वीकार्य भाषा व टिप्पणियों का प्रयोग करते हुए प्रतीत होते हैं।” (Hindi News, Government’s instructions to TV channels)

सूचना प्रसारण मंत्रालय ने कहा कि “कुछ टीवी चैनल्स यूक्रेन युद्ध के संबंध में झूठे दावे कर रहे हैं, वह युद्ध की कवरेज करते समय ऐसी ऐसी हेडलाइंस व टैगलाइंस का प्रयोग कर रहे हैं जिस से शालीनता बिल्कुल ही भंग हो रही है।” मंत्रालय ने आरोप लगाया कि “कई चैनलों की जहाँगीरपुरी हिंसा कवरेज से सांप्रदायिक तनाव और बढ़ गया है।”
Hindi News, Government’s instructions to TV channels)
सूचना प्रसारण मंत्रालय की तरफ़ से जारी इस एडवाइज़री में कहा गया है कि “टीवी चैनल ऐसे भड़काऊ वीडियो व फोटो दिखा रहे हैं जो दो समुदायों के बीच वैमनस्यता और उन्माद को बढ़ा सकती है और शान्ति व्यवस्था को बाधित कर सकती हैं।” (Hindi News, Government’s instructions to TV channels)

यह भी पढ़ें- जिनके घर शीशे के हों वो दूसरों पर पत्थर नहीं उछाला करते, ये कहावत चरितार्थ करती है जहाँगीरपुरी हिंसा के आरोपी अंसार को जो हैं हर ग़ैर क़ानूनी काम में लिप्तAnsar delhi violence accused

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]