IRAQ Crisis: इराक़ में शिया धर्मगुरु अल-सद्र के सत्ता छोड़ने की घोषणा के बाद प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच हुई झड़प में 15 नागरिकों की मौत

IRAQ Crisis: इराक़ में शिया धर्मगुरु अल-सद्र के सत्ता छोड़ने की घोषणा के बाद प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच हुई झड़प में 15 नागरिकों की मौत

विदेश समाचार डेस्क/इराक़: IRAQ Crisis-
इराक में भी श्रीलंका जैसे ही राजनीतिक हालात पैदा हो गये हैं। यहाँ भी ठीक श्रीलंका की तरह ही अराजक होने की घटना सामने आ रही है। यह स्थिति तब2 पैदा हुई जब सोमवार को राजनीतिक गतिरोध के चलते नाराज़ शिया धर्मगुरु मुक्तदा अल-सद्र ने राजनीति छोड़ने की घोषणा कर दी।IRAQ Crisis

अल-सद्र की इस घोषणा करने के साथ ही यहाँ सेना ने कर्फ़्यू नाफ़िज़ कर दिया। इसके बाद जब मुक्तदा अल-सद्र के समर्थक लोग सड़कों पर उतर आये तो इनके और सुरक्षाबलों के बीच हिंसक झड़पें हो गयी। इस दौरान मुक्तदा अल-सद्र के हज़ारों समर्थकों ने राष्ट्रपति भवन पर धावा बोल दिया। हालाँकि यहाँ सुरक्षाबलों ने इन्हें रोकने के लिये आँसू गैस के गोले दाग़े और फ़ायरिंग भी की लेकिन प्रदर्शकारी नहीं माने। (IRAQ Crisis)

विदेशी मीडिया के अनुसार इस दौरान हुई हिंसक झड़प में लगभग 15 नागरिकों के मारे जाने और लगभग 300 से अधिक लोगों के घायल होने की ख़बर है। हालांकि इस झड़प और हिंसा के बावजूद मुक्तदा अल-सद्र के समर्थक राष्ट्रपति भवन पर क़ब्ज़ा करने में सफ़ल हो गये। श्रीलंका की ही तरह यहाँ इराक़ में प्रदर्शकारी राष्ट्रपति भवन के स्विमिंग पूल, मीटिंग हॉल सहित पूरे पैलेस में टहलते नज़र आये। (IRAQ Crisis)

 

क्या इराक़ में राजनीतिक संकट होने की असल वजह?
दरअसल इराक़ की सरकार में यह राजनीतिक गतिरोध उस वक़्त सामने आया जब शिया धर्मगुरु मुक्तदा अल-सद्र की पार्टी ने अक्टूबर माह में हुए के पार्लियामेंट चुनावों में सबसे ज़्यादा सीटें तो जीती थी लेकिन वह बहुमत तक नहीं पहुँच सके थे। मुक्तदा अल-सद्र ने आम सहमति वाली सरकार बनाने हेतु ईरान समर्थित शिया प्रतिद्वंद्वियों के साथ बातचीत करने से बिल्कुल साफ़ इनकार कर दिया था।

IRAQ Crisisजबकि इससे पूर्व भी मुक्तदा अल-सद्र के समर्थकों ने जुलाई माह में सरकार बनाने से रोकने को लेकर संसद में प्रदर्शन किया था। और 4 सप्ताह से ज़्यादा वक़्त तक से धरने पर बैठे रहे हैं। वे प्रधानमन्त्री पद के लिये मोहम्मद शिया अल-सुदानी की उम्मीदवारी का विरोध कर रहे थे। उनका मानना ​​था कि अल-सुदानी ईरान के बहुत क़रीब हैं। (IRAQ Crisis)

UN ने की शान्ति की अपील-IRAQ Crisis
इराक़ में चल रहे इस राजनीतिक संकट के बीच संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने इन विरोध प्रदर्शनों पर गहरी चिन्ता व्यक्त करते हुए लोगों से संयम और शान्ति बरतने की अपील की है। उन्होंने इराक़ के सभी सम्बंधित अधिकारियों से इराक़ में पनपी इस हिंसा को रोकने के लिये तत्काल क़दम उठाने का आग्रह भी किया।

यह भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ में पिकनिक के दौरान वॉटरफॉल पर सेल्फ़ी लेते समय एक ही परिवार के 6 लोगों की मौतChhattisgarh 6 died during selfie

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]