हिजाब का मामला पहुँचा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर, जानिये इस्लामिक देशों की क्या रही प्रतिक्रिया-Karnataka hijab issue became an international issue

हिजाब का मामला पहुँचा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर, जानिये इस्लामिक देशों की क्या रही प्रतिक्रिया-Karnataka hijab issue became an international issue

नई दिल्ली: 
कर्नाटक राज्य में मुस्लिम छात्राओं के हिजाब पहनकर स्कूल में प्रवेश करने से रोकने का मुद्दा लगातार तूल पकड़ता जा रहा है। कर्नाटक के ‘उडुपी जूनियर कॉलेज’ से स्टार्ट हुआ ये विवाद अब देश के बाहर अन्तर्राष्ट्रीय मीडिया की सुर्खियां बन चुका है। हालांकि इस मामले में को लेकर अभी कर्नाटक हाईकोर्ट में सुनवायी चल रही है। (Karnataka hijab issue became an international issue)

बुधवार को सोशल मीडिया पर हिजाब विवाद से जुड़ा एक वीडियो सोशल मीडिया पर बहुत से वायरल हो रहा है जिस में हिजाब पहने एक स्कूली छात्रा को भगवा गमछे पहने कुछ लोगों की भीड़ घेरती दिखाई दे रही है जो वीडियो में ‘जय श्री राम’ के नारे लगाते हुए छात्रा को परेशान करते दिख रहे हैं, लेकिन हिजाब पहने छात्रा निर्भीक मुद्रा में भीड़ के ‘जय श्रीराम-जय श्रीराम’ के नारे का जवाब ‘अल्लाह-हु-अकबर-अल्लाह-हु-अकबर’ कहकर कहती हुई माहौल का सामना करती है। (Karnataka hijab issue became an international issue)

वीडियो में दिख रही हिजाब पहनकर स्कूल जाने वाली इस छात्रा की वायरल वीडियो पर विदेशों विशेषकर इस्लामिक देशों से कड़ी प्रतिक्रियायें मिल रही है। तुर्की और पाकिस्तान सहित कई देशों ने इस वीडियो को लेकर देश की बीजेपी सरकार पर निशाना साधा गया है।Karnataka hijab issue became an international issue

कर्नाटक हिजाब मामले को लेकर तुर्की देश से भी भारत सरकार के लिए तल्ख़ प्रतिक्रिया सामने आयी है। तुर्की का सरकारी प्रसारण (TRT World) कहता है कि “नरेंद्र मोदी की राष्ट्रवादी सरकार में मुसलमानों के विरुद्ध हिन्सा और हेट स्पीच के मामले बढ़े है।” TRT World की रिपोर्ट में लिखा गया है कि “मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से कट्टरपंथी लोगों को बल मिल रहा है जो भारत को हिंदुत्ववादी राष्ट्र बनाना चाहते हैं।” (Karnataka hijab issue became an international issue)

हॉन्गकॉन्ग की मीडिया ने भी भारत के हिजाब प्रकरण को अपनी मीडिया सुर्खियों में जगह दी है। हॉन्ग कॉन्ग के एक अख़बार ‘मॉर्निंग पोस्ट’ ने छापा है कि “यह भारत हिन्दू राष्ट्रवादी मोदी सरकार के टाइम का ध्रुवीकृत भारत है। भारत मे विपक्ष मोदी सरकार पर मुस्लिमों पर बढ़ते हुए अत्याचारों के आरोप लगाता आ रहा है।”Karnataka hijab issue became an international issue

वहीं पाकिस्तान के अख़बार ‘दैनिक डॉन’ ने अपनी एक रिपोर्ट में छापा है कि “मोदी की हिन्दुत्ववादी सरकार में मुस्लिमों के विरुद्ध उत्पीड़न बढ़ता जा रहा है जिस से भारत के अल्पसंख्यकों (मुस्लिमों) में खौफ़ का माहौल पैदा हो गया है। (Karnataka hijab issue became an international issue)

पाकिस्तान के ही एक और अख़बार ‘पाकिस्तान टुडे’ ने लिखा है कि “आर.एस.एस के भगवाधारीयों ने जो हिजाब पहनी तन्हा लड़की को घेरा है , जिससे हिन्दुत्वादियों की क़ायरता का ख़ुलासा होता है।”Karnataka hijab issue became an international issue

बांग्लादेश की मीडिया ने भी इस पूरे मामले को लेकर मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। ढाका ट्रिब्यून की रिपोर्ट में कहा गया, ‘भारतीय जनता पार्टी शासित कर्नाटक राज्य और पार्टी के कई नेताओं ने हिजाब पर बैन का समर्थन किया है।’ (Karnataka hijab issue became an international issue)

वहीं इस मामले पर बुधवार को भी कर्नाटक हाईकोर्ट में सुनवयी हुई है। हालांकि कर्नाटक हाईकोर्ट द्वारा इस मामले को बड़ी बेंच में सुने जाने की सिफ़ारिश की गई है। अब बड़ी बेंच इस मामले पर विचार करेगी कि “क्या स्कूल-कॉलेजों में किसी मुस्लिम लड़की को हिजाब पहनकर आने से रोक सकते हैं या नहीं? इस बात को लेकर संवैधानिक व मौलिक अधिकारों से जुड़े सभी मुद्दों पर हाईकोर्ट की बड़ी खण्डपीठ विचार करेगी।”

यह भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने दहेज उत्पीड़न मामलों में सास-ससुर को दी राहत,कहा दहेज उत्पी़ड़न क़ानून का हो रहा है दुरुपयोग

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]