एक स्वतंत्रता क्रांतिकारी का 109 वर्ष बाद हुआ अन्तिम संस्कार-Lagud Nagesia’s funeral after 109 years

एक स्वतंत्रता क्रांतिकारी का 109 वर्ष बाद हुआ अन्तिम संस्कार-Lagud Nagesia’s funeral after 109 years

छत्तीसगढ़:
छत्तीसगढ़ के बलरामपुर से एक ऐसी ख़बर है जो शायद देश की एक अकेली ऐसी घटना होगी जब किसी मृत व्यक्ति की देह को 109 वर्ष के लम्बे अन्तराल के बाद अन्तिम संस्कार किया गया हो। 109 वर्ष बाद हुए अन्तिम संस्कार की यह घटना अपने आप में इतिहास में दर्ज हो गई है। इस अन्तिम संस्कार में बड़ी संख्या में इलाक़े के लोग शामिल हुए।  (Lagud Nagesia’s funeral after 109 years)

बताया जा रहा है कि अब से लगभग एक सदी पूर्व जब देश में अंग्रेजों का राज था तब अंग्रेज़ों के विरुद्ध किये जा रहे आंदोलन में भाग लेने वाले ‘लागुड़ नगेसिया’ नाम के व्यक्ति को अंग्रेज़ों ने खौलते तेल में तलकर मौत की बड़ी की क्रूरतम सज़ा दी थी। जिसमें सिर्फ़ ‘लागुड़ नगेशिया’ का कंकाल शेष रह गया था। तब से यानि 109 वर्ष से अब तक ‘लागुड़ नगेशिया’ का कंकाल एक स्कूल की लैब में रखा हुआ था। अब वहाँ के स्थानीय विधायक की पहल के बाद इस कंकाल का अन्तिम संस्कार किया गया है। (Lagud Nagesia’s funeral after 109 years)Lagud Nagesia's funeral after 109 years

प्राप्त जानकारी के अनुसार एक सदी पूर्व छत्तीसगढ़ के मौजूदा बलरामपुर जनपद के सामरी निवासी ‘लागुड़ नगेशिया’ अंग्रेजी शासन के विरुद्ध लड़ने वाले एक क्रन्तिकारी नागरिक थे। वर्ष 1913 में ब्रिटिश शासन के विरुद्ध आन्दोलन में भाग लेने के कारण अग्रेजों ने उन्हें खौलते (गर्म) तेल में तलकर उनकी अस्थियों को एक स्कूल में रखवा दिया था। तभी से’लागुड़ नगेशिया के परिजन बीते 109 वर्षों से अन्तिम संस्कार करने के लिए अस्थियों की मांग रहे थे। (Lagud Nagesia’s funeral after 109 years)Lagud Nagesia's funeral after 109 years

लागुड़ नगेशिया का यह कंकाल छत्तीसगढ़ अम्बिकापुर के सरकारी मल्टीपर्पज़ स्कूल की लैब में रखा हुआ था। जिसे अब वहाँ के स्थानीय विधायक चिन्तामणि महाराज ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से बात करके और ज़िला प्रशासन के सहयोग से स्कूल की लैब से बाहर निकालकर अन्तिम संस्कार किया गया है। (Lagud Nagesia’s funeral after 109 years)

यह भी पढ़ें- बेटी के लगन की रस्म पूरी करके लौटते समय सड़क हादसे में पिता सहित 5 लोगों की मौत5 died in Rampur road accident

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]