म्यांमार की 76 वर्षीय नेता आंग सान सू की को हुई 4 वर्ष की सज़ा- Myanmar Court sentenced to four years in prison for Yong San Suu Kyi

म्यांमार की 76 वर्षीय नेता आंग सान सू की को हुई 4 वर्ष की सज़ा– Myanmar Court sentenced to four years in prison for Yong San Suu Kyi

नेपिदा (म्यामांर):
म्यांमार (बर्मा) की एक अदालत ने आज (सोमवार) वहाँ की नेता ‘आंग सान सू की’ को सेना के विरुद्ध असंतोष भड़काने व कोविड नियमों को तोड़ने के लिए 4 वर्ष जेल की सज़ा सुनाई है। म्यांमार (बर्मा) में सत्ताधारी जुंटा के प्रवक्ता के अनुसार ‘आंग सान सू’ की को 2 वर्ष की सज़ा सेना के विरुद्ध असंतोष भड़काने और 2 साल की सज़ा कोविड-19 के नियमों को तोड़ने के अंतर्गत दी गई है। (Myanmar Court sentenced to four years in prison for Yong San Suu Kyi)म्यांमार की 76 वर्षीय नेता आंग सMyanmar: Court sentenced to four years in prison for Yong San Suu Kyi

आपको बता दें कि म्यांमार में पिछले लगभग आठ महीनों में 1,300 से अधिक लोगों का क़त्लेआम हो चुका है जबकि 10,000 से अधिक लोग जेलों में जा चुके हैं। हालांकि ‘आंग सान सू की’ के विरुद्ध और भी कई मामलों पर भी अदालत में सुनवाई जारी हैं जिन में वह अगर दोषी क़रार दी जा जाती है तो उन्हें पहले की तरह दशकों तक भी जेल में ही रहना पड़ सकता है। ‘आंग सान सू की’ के अतिरिक्त म्यांमार के पूर्व राष्ट्रपति ‘विन मिंट’ को भी इन्ही आरोपों में 4 वर्ष क़ैद की सज़ा सुनाई गई है। जबकि मीडिया रेऊर्ट्स के अनुसार फ़िलहाल सत्ताधारी जुंटा इन्हें तत्काल जेल नहीं भेजने की बात कर रहे हैं, जुंटा के अनुसार इनके विरुद्ध और भी मामलों की सुनवाई चल रही है इसलिए फिलहाल उन्हें जेल से बाहर ही नज़रबंद रखा गया है। (Myanmar Court sentenced to four years in prison for Yong San Suu Kyi)

76 वर्षीय ‘आंग सान सू की’ म्यांमार की एक लोकप्रिय नेता हैं जिन्हें वहां के सेना जनरल ने इनकी सरकार का 1 फरवरी को तख़्तापलट कर उन्हें हिरासत में लेकर नज़रबंद किया हुआ है। ‘आंग सान सू की’ को हिरासत में लेने के बाद जुंटा सरकार ने उन पर ऑफिशियल सीक्रेट ऐक्ट के उल्लंघन,भ्रष्टाचार व चुनाव में धोखाधड़ी जैसे कई मामलों के आरोप लगाए हुए हैं।

Myanmar Court sentenced to four years in prison for Yong San Suu Kyi- इससे पहले भी ‘आंग सान सू की’ ने अपने बीते 20 वर्षो में से 14 वर्ष बर्मा की सैनिक सरकार द्वारा नज़रबंद रखा हुआ था, इन्हें 13 नवम्बर 2010 को रिहा किया गया है। ‘आंग सान सू की’ म्यांमार (बर्मा ) की एक लेखक और राजनेता हैं जो बर्मा के राष्ट्रपिता ‘आंग सान’ की पुत्री हैं जिनकी सन 1947 में राजनीतिक हत्या कर दी गयी थी।

ये भी पढ़ें- इस्लाम से बर्ख़ास्त हुए वसीम रिज़वी ने अपनाया सनातन धर्मम्यांमार की 76 वर्षीय नेता आंग सान सू की को हुई 4 वर्ष की सज़ा- Myanmar Court sentenced to four years in prison for Yong San Suu Kyi

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]