Narasimhanand’s Dharm Sansad: नरसिंहानन्द ने ग़ाज़ियाबाद ज़िला प्रशासन को दी चेतावनी, कहा धर्म संसद तो किसी भी क़ीमत पर करके रहेंगे, अगर ज़िला प्रशासन ने कोई अड़चन….

Narasimhanand’s Dharm Sansad: नरसिंहानन्द ने ग़ाज़ियाबाद ज़िला प्रशासन को दी चेतावनी, कहा धर्म संसद तो किसी भी क़ीमत पर करके रहेंगे, अगर ज़िला प्रशासन ने कोई अड़चन….

नई दिल्ली: Narasimhanand’s Dharm Sansad- उत्तर प्रदेश की ग़ाज़ियाबाद पुलिस ने कट्टरपंथी हिन्दुत्ववादी नेता व डासना देवी मन्दिर के पुजारी यति नरसिंहानन्द को नोटिस जारी करते हुए 17 दिसम्बर को होने वाली धर्म संसद और धर्म संसद की तैयारियों को लेकर कोई भी बैठक आयोजित न करने का निर्देश दिया है।Narasimhanand's Dharm Sansad

ग़ाज़ियाबाद ज़िला प्रशासन की तरफ़ से मसूरी पुलिस ने 3 नवम्बर को यति नरसिंहानन्द को यह नोटिस जारी किया था। जानकारी के अनुसार पूर्वी दिल्ली से बीजेपी के पूर्व सांसद बैकुण्ठ लाल शर्मा की जयन्ती के उपलक्ष में आगामी 17 दिसम्बर से प्रस्तावित 3 दिवसीय धर्म संसद की योजना तैयार करने हेतु 6 दिसम्बर को धर्म संसद की तैयारियों को लेकर बैठक बुलायी गयी है। (Narasimhanand’s Dharm Sansad)

ग़ौरतलब है कि सांप्रदायिक और हिंसक बयानों के लिये जाने माने विवादास्पद पुजारी यति नरसिंहानंद ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर प्रस्तावित धर्म संसद मन्दिर परिसर के भीतर ही आयोजित की जायेगी। इसलिये उन्हें प्रशासन की किसी भी अनुमति की ज़रूरत नहीं है। (Narasimhanand’s Dharm Sansad)

यति नरसिंहानन्द का कहना है कि “यह (धर्म संसद) कोई पहली बार आयोजित नहीं हो रही है..हम तो इसे (धर्म संसद को) किसी भी क़ीमत पर आयोजित करके रहेंगे। उन्होंने कहा कि अगर ज़िला प्रशासन ने धर्म संसद के आयोजन में कोई अड़चन पैदा की तो हम विरोध दर्ज करायेंगे। (Narasimhanand’s Dharm Sansad)Narasimhanand's Dharm Sansad

उधर पुलिस अधीक्षक इराज राजा का कहना है कि “बग़ैर अनुमति के पुलिस 3 दिवसीय धर्म संसद की अनुमति नहीं देगी। यहाँ सैकड़ों सन्त आयेंगे और उन्हें सुरक्षा प्रदान करना एक कठिन कार्य होगा। साथ ही नगर निकाय चुनावों के दृष्टिगत जनपद में धारा-144 भी लागू है।” (Narasimhanand’s Dharm Sansad)
यह भी पढ़ें- तंजानिया में लैंडिंग के दौरान झील में गिरा एक यात्री विमान, राहत और बचाव कार्य जारी- देखें VIDEOTanzania Plane Crash

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]