अब मध्य प्रदेश में विधायक क्रिकेट टूर्नामेंट में मुस्लिम खिलाड़ियों के लिये नो एंट्री का मामला आया सामने- No entry of Muslim players in MP

  • अब मध्य प्रदेश में विधायक क्रिकेट टूर्नामेंट में मुस्लिम खिलाड़ियों के लिये नो एंट्री का मामला आया सामने- No entry of Muslim players in MP

मध्य प्रदेश:
No entry of Muslim players in MP-  हिंसा के बाद अब भजपा विधायक देवेंद्र वर्मा द्वारा कराये जा रहे क्रिकेट टूर्नामेंट में मुस्लिम खिलाड़ियों के नो एंट्री की घटना के बाद सांप्रदायिक तनाव को और बढ़ाने का काम किया है। बता दें कि मध्य प्रदेश के खंडवा में हो रहे ‘विधायक क्रिकेट टूर्नामेंट’ में मुस्लिम खिलाड़ियों के प्रतिभाग करने पर रोक लगा दी गयी है। इन मुस्लिम खिलाड़ियों ने ज़िले के अधिकारियों से इसकी शिकायत करते हुए आरोप लगाया है। (No entry of Muslim players in MP )

Desh Duniya Today अब कुटुम्ब ऐप पर भी, ऐसी ही हर न्यूज़ अपडेट तुरन्त अपने फ़ोन में पाने के लिए यहाँ क्लिक करें।

दरअसल मध्य प्रदेश के खंडवा में एक लोकल क्रिकेट टूर्नामेंट आयोजित किया जा रहा है। टेनिस बॉल से खेले जाने वाले इस क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन स्थानीय विधायक देवेंद्र वर्मा ने किया है और इसका संचालन भाजपा नेता दिनेश पालीवाल कर रहे हैं। इस वर्ष इस टूर्नामेंट में कुल 32 टीमों ने प्रतिभाग किया है लेकिन इस टूर्नामेंट में 5 टीमें ऐसी भी हैं जिनके प्रतिभाग करने पर रोक लगा दी गई है। क्योंकि इन 5 टीमों में लेने दिया गया है। इन पांच टीमों में कुछ प्लेयर्स मुस्लिम समुदाय से हैं। (No entry of Muslim players in MP )

 

इन 5 टीमों ने ज़िलाधिकारी और एस.पी को लिखित में एक शिकायत की है जिस के बाद कोतवाली पुलिस थाने में इस निर्णय के विरुद्ध शिकायत दर्ज करायी गयी है। वहीं दूसरी तरफ़ टूर्नामेंट आयोजकों ने इस आरोपों को नकारते हुए कहा कि “उनकी 32 क्रिकेट टीमों की लिमिट थी जिस के पूरा होने के बाद ही इन टीमों को एंट्री नहीं दी गयी है। हालांकि सच यह भी है कि जिन टीमो 32 टीमों को टूर्नामेंट में एंट्री दी गयी है इन मे एक भी मुस्लिम खिलाड़ी नहीं है। (No entry of Muslim players in MP )

यह भी पढ़ें- बिहार का एक गाँव जहाँ मुस्लिम तो एक भी नहीं लेकिन हर रोज़ होती है पाँचों वक़्त की अज़ान, जानें इस सेक्यूलर गाँव की क्या है कहानी A village where Hindus look after Mosque

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]