अब देश में पैदा हुआ’आर्थिक जेहाद’ मुद्दा, बीजेपी के बड़े नेता ने हलाल मीट को बताया आर्थिक जिहाद- Now BJP has created economic jihad issue

अब देश में पैदा हुआ’आर्थिक जेहाद’ मुद्दा, बीजेपी के बड़े नेता ने हलाल मीट को बताया आर्थिक जिहाद– Now BJP has created economic jihad issue

कर्नाटक: 
Now BJP has created economic jihad issue-देश में ‘लव जिहाद मुद्दा’, ‘चूड़ी जिहाद मुद्दा’ अज़ान और हिजाब जैसे मुस्लिम विरोधी मुद्दों के बाद अब एक और नया ‘हलाल मीट जिहाद’ अथवा ‘आर्थिक जिहाद’ मुद्दे का खड़ा हो गया है। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव सी.टी रवि द्वारा हलाल मीट का बहिष्कार करने और हलाल मीट को ‘आर्थिक जिहाद’ की संज्ञा देने और मन्दिरों के आसपास मेलों में मुस्लिमों की दुकानों पर प्रतिबन्ध लगाने जैसे मुद्दे से कर्नाटक राज्य का माहौल गर्मा गया है। शायद अब बहुत जल्द ही हिजाब मुद्दे की तरह जल्द ही अब यह ‘आर्थिक जिहाद’ मुद्दा भी एक राष्ट्रीय मुद्दा जायेगा। (Now BJP has created economic jihad issue)

कर्नाटक में हिजाब मुद्दे के बाद अब बीजेपी नेता सीटी रवि ने हलाल मीट का विरोध करते हुए हलाल को ‘आर्थिक जिहाद’ की संज्ञा देकर एक नया विवाद खड़ा करता है। इस नये ‘आर्थिक जिहाद’ मुद्दे ने कर्नाटक में राजनीतिक माहौल को गर्मा दिया है। दरअसल भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि ने अब हिन्दुओं से हलाल मीट का बहिष्कार करने का आवाह्न करते हुए इस ‘हलाल मीट’ के कारोबार को मुस्लिमों का ‘आर्थिक जिहाद’ क़रार दे दिया है। जबकि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने भाजपा नेता सीटी रवि के इस बयान की कड़ी निन्दा की है। (Now BJP has created economic jihad issue)Now BJP has created economic jihad issue

भाजपा नेता सीटी रवि ने कहा कि “हलाल (मीट) को एक योजनाबद्ध तरीक़े से डिज़ाइन किया गया है ताकि उत्पाद ( हलाल मीट) केवल मुसलमानों से ही ख़रीदे जाये और किसी दूसरों से नहीं।” उन्होंने कहा कि “जब मुसलमान हिन्दुओं से मीट ख़रीदने से इनकार करते हैं तो आप हिन्दुओं से उनसे (मुस्लिमों से) मीट ख़रीदने के लिये क्यूँ ज़ोर देते हैं?” हलाल मीट का बहिष्कार करने के आह्वान के संबंध में पूछे जाने पर भाजपा नेता सीटी रवि ने कहा कि “इस तरह की व्यापार प्रथायें एक तरफ़ा यातायात नहीं बल्कि दो तरफ़ा हैं।” उन्होंने कहा कि “यदि मुसलमान ग़ैर-हलाल मांस खाने के लिये सहमत हो जाते हैं तो हिन्दू भी हलाल मांस का उपयोग करेंगे। लेकिन जब मुसलमान बिना हलाली का मांस नहीं खाते तो हिन्दू क्यूँ हलाल मांस ख़रीदते हैं? (Now BJP has created economic jihad issue)

आपको बता दें कि कर्नाटक मर ‘उगादी’ के एक दिन बाद हिन्दुओं का एक मांसाहारी वर्ग भगवान को मांस चढ़ाकर नव वर्ष मनाता है। और यह प्रथा कर्नाटक के कुछ हिस्सों में हिन्दू धार्मिक मेलों के दौरान होती है। इसलिए हाल ही में कर्नाटक में मन्दिरों के आस-पास मुस्लिम मांस विक्रेताओं की दुकानों पर प्रतिबन्ध लगा दिया है। इस घटनाक्रम के बीच कर्नाटक पूर्व मुख्यमंत्री व JDS नेता एच.डी कुमारस्वामी ने बीजेपी नेता द्वारा दिये गये इस ‘आर्थिक जिहाद’ वाले बयान की निन्दा की। उन्होंने राज्य के हिन्दू युवाओं से राज्य को ख़राब न करने का आह्वान करते हुए कहा कि “कर्नाटक में शान्ति और सद्भाव को बर्बाद नहीं करना चाहिये।” (Now BJP has created economic jihad issue)

यह भी पढ़ें- योगी सरकार के दोनों उप-मुख्यमंत्रियों सहित 10 मंत्रियों का नया स्टाफ़ लेने से इनकार, की पुराने ही स्टाफ़ लेने की माँगYogi government ministers demand to keep old staff

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]