Old Pension Victims of Haryana: चंडीगढ़ की सुखना झील पर पर इकट्ठा हुए 50 मुर्दे, पूरे दमख़म के साथ बोले “अभी हम ज़िन्दा हैं”

Old Pension Victims of Haryana: चंडीगढ़ की सुखना झील पर पर इकट्ठा हुए 50 मुर्दे, पूरे दमख़म के साथ बोले “अभी हम ज़िन्दा हैं”

चंडीगढ़: Old Pension Victims of Haryana- हरियाणा में कुछ वृद्धजनों को रिकॉर्ड में मृत दिखाकर, विधवाओं के पतियों को ज़िन्दा दर्शाकर और दिव्यांगों को सामान्य दिखाकर प्रदेश समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों ने पेंशन काट दी गयी है। यह मामला पिछले दिनाें उस समय तूल पकड़ा जब रोहतक निवासी 102 वर्षीय दुलीचन्द अपनी पेंशन बहाली के लिये रथ में सवार  होकर पूरे बैंड बाजे के साथ सैकडों लोगों की बारात लेकर डीसी कार्यालय पहुँचे थे।Old Pension Victims of Haryana

अब शुक्रवार को इसी 102 वर्षीय बाबा दुलीचन्द की अगुवाई में लगभग ऐसे ही 50 पेंशन भोगी पीड़ित वृद्धजन अपनी समस्या को लेकर प्रदेश की राजधानी चंडीगढ़ पहुँचे। यहाँ AAP (आम आदमी पार्टी) के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नवीन जयहिन्द के साथ बस द्वारा पहुँचे वृद्धजनों, विधवाओं व दिव्यांगों ने पहले राजधानी के पत्रकारों के सामने अधिकारियों की पोल खोली, इसके बाद सीएम आवास पर पहुँचे। (Old Pension Victims of Haryana)

अधिकारियों और सीएम आवास पर अपने साथ हो रहे अन्याय के विरुद्ध अपना दमख़म दिखाने के बाद सुखना झील पर इकठ्ठा हुए वृद्धजनों ने जहाँ पूरे दमख़म के साथ कहा कि “अभी हम ज़िन्दा हैं।” तो वहीं जिन विधवाओं के पति ज़िन्दा दिखाकर पेंशन काटी गयी है, उन्होंने सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि “हमें पेंशन की ज़रूरत नहीं है..बस सरकार हमारे पतियों वापस कर दे।” (Old Pension Victims of Haryana)

● ‘थारा फूफा अभी ज़िन्दा है’ रोहतक के 102 साल के मृत घोषित बुज़ुर्ग ने बारात निकालकर प्रशासन को दिया ज़िन्दा होने का सबूत

इस अवसर पर आम आदमी पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नवीन जयहिन्द ने बताया कि “उनके प्रयास और उनके द्वारा जारी हेल्पलाइन नम्बर 7027811811 पर अभी तक लगभग 600 फ़ोन कॉल आ चुकी हैं। इनमें से 100 से ज़्यादा लोग तो ऐसे हैं, जिन्हें मृत दिखाकर उनकी पेंशन काट दी। जब वृद्धजन अपने हक़ के लिये आवाज़ उठा रहे हैं तो अधिकारी लोग तंग आकर कहते हैं कि सरकार बदनाम हो रही है।” (Old Pension Victims of Haryana)Old Pension Victims of Haryana

नवीन जयहिन्द का कहना है कि “अधिकारियों ने किसी को पहचान पत्रों में मृत दिखा दिया गया है, तो बहुत सी विधवा महिलाओं के पतियों को ज़िन्दा दिखाकर उनकी पेंशन काट दी गयी है।” नवीन जयहिन्द ने दावा किया है कि “हरियाणा प्रदेश में लगभग 15 हज़ार वृद्धजन ऐसे हैं जिन्हें रिकॉर्ड में मरा हुआ दर्शाकर पेंशन काट दी गयी है।” (Old Pension Victims of Haryana)
यह भी पढ़ें- यूपी के गोंडा ज़िले में सड़क किनारे पड़े बिजली के तार की चपेट में आने से 2 सगे भाइयों सहित 3 की मौत3 died In Gonda Accident

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]