सार्वजनिक उपक्रमों के बेचने की श्रृंखला में अब ‘पवन हंस’ को भी बेचने जा रही है सरकार,राजीव गाँधी के समय बनी थी यह हेलीकॉप्टर कम्पनी- Pawan Hans sale,Hindi News

  • सार्वजनिक उपक्रमों के बेचने की श्रृंखला में अब ‘पवन हंस’ को भी बेचने जा रही है सरकार,राजीव गाँधी के समय बनी थी यह हेलीकॉप्टर कम्पनी- Pawan Hans sale,Hindi News

नई दिल्ली: 25 अप्रैल-2022
Pawan Hans sale,Hindi News-देश की हेलीकॉप्टर सेवा देने वाली कम्पनी ‘पवन हंस’ (Pawan Hans) लिमिटेड की भी अब बिक्री को अन्तिम रूप देने की तैयारीयां चल रही है। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस बारे में कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता में अधिकारियों का एक समूह बैठक करने वाला है। बताया जा रहा है कि ‘पवन हंस’ में JSW स्टील लिमिटेड और जिंदल स्टील एण्ड पावर लिमिटेड ने भी इस ऑक्शन में अपनी दिलचस्पी दिखाई है।Pawan Hans sale,Hindi News

एक ओर जहाँ सरकार ‘पवन हंस’ में अपनी 51 प्रतिशत की समूची हिस्सेदारी बेच रही है। शेष 49 प्रतिशत की हिस्सेदारी सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम ‘तेल व प्राकृतिक गैस निगम (ONGC) के पास है और वह भी अपनी पूरी 49 प्रतिशत की हिस्सेदारी बेचना चाहती है। (Pawan Hans sale,Hindi News)

बता दें कि ‘पवन हंस’ की स्थापना वर्ष-1985 में हुई थी और आज इस ‘पवन हंस’ लिमिटेड के पास 40 से ज़्यादा हेलीकॉप्टरों का एक बड़ा बेड़ा है। इस कम्पनी में लगभग 900 कर्मचारी कार्य करते हैं जिन में से 50 प्रतिशत से भी कम कर्मचारी स्थायी हैं। यह पवन हंस (Pawan Hans) कम्पनी ONGC की अन्वेषण गतिविधियों के कार्य के साथ भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र के लिये हेलीकॉप्टर सेवायें प्रदान करने का कार्य करती है।

जिस के लिये टीवी चैनलों ने पत्रकारिता के धर्म को छोड़ा, अब उसी सरकार ने झूठे,बड़बोले और चापलूस चैनलों को लताड़ा

हालांकि सरकार ने ‘पवन हंस’ (Pawan Hans) कम्पनी में अपनी हिस्सेदारी बेचने के लिये वर्ष- 2018 में निविदायें आमन्त्रित की थी लेकिन उस समय ONGC ने अपनी हिस्सेदारी बेचने का का निर्णय किया तो किया तो सरकार ने अपने क़दम वापस खींच लिये थे। इसके बाद वर्ष-2019 में भी इस कम्पनी को बेचने का एक और प्रयास हुआ था तब निवेशकों ने इस में अपनी कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई थी।(Pawan Hans sale,Hindi News)Pawan Hans sale,Hindi News

अब 2022 में एक बार फ़िर से ‘पवन हंस’ (Pawan Hans) कम्पनी की बेचने की बात चल रही है। सरकार की ‘पवन हंस’ (Pawan Hans) की बिक्री से विनिवेश लक्ष्य को प्राप्त करने में सहायता मिलेगी। केन्द्र सरकार मार्च- 2023 तक कुछ और कम्पनियों में अपनी अल्पांश भागीदारी को बेचने सहित विनिवेश से लगभग 650 अरब रुपये यानि 8.5 अरब डॉलर धनराशि जुटाने का लक्ष्य बना रही है। (Pawan Hans sale,Hindi News)

यह भी पढ़ें- मछली बेचने वाले व्यक्ति की ईमानदारी देखिये, 3 साल बाद मालिक को खोजकर किया नोटों का बैग के वापसHonest Fisherman,News In Hindi

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]