हिजाब विवाद है ‘इस्लामोफ़ोबिया’ का एक उदाहरण : शिया धर्मगुरु मौलाना क़ल्बे जवाद-Qalbe Jawad statement on Hijab

हिजाब विवाद है ‘इस्लामोफ़ोबिया’ का एक उदाहरण : शिया धर्मगुरु मौलाना क़ल्बे जवाद- Qalbe Jawad statement on Hijab

नई दिल्ली : 
Qalbe Jawad statement on Hijab- देश में उपजे हिजाब विवाद के बीच प्रसिद्ध शिया धर्मगुरु और ‘मजलिस-ए-उलेमा-ए-हिन्द’ के महासचिव मौलाना क़ल्बे जवाद का बड़ा बयान सामने आया है। मौलाना क़ल्बे जवाद ने देश में हिजाब को लेकर हो रहे विवाद को ‘इस्लामोफ़ोबिया’ का एक उदाहरण बताया है। उन्होंने देश के मुसलमानों से आह्वान करते हुए कहा है कि “मुसलमानों को ज़्यादा से ज़्यादा अपने शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना करनी चाहिये ताकि मुसलमानों को शिक्षा के लिये दूसरों पर निर्भर न रहना पड़े।” (Qalbe Jawad statement on Hijab)

मौलाना क़ल्बे जवाद ने कहा कि “हिजाब शिक्षा या पेशे में कोई बाधक नहीं है।” उन्होंने कहा कि “हिजाब इस्लाम का एक अभिन्न अंग है, हम अदालत का सम्मान करते हैं लेकिन ऐसा लगता है कि इस मुद्दे को समझने की कोई वास्तविक कोशिश नहीं की गई है।”

इन्होंने कहा कि “हमें संभवतः अपने ज़्यादा से ज़्यादा शैक्षणिक संस्थान स्थापित करने की ज़रूरत है, ज़रूरी नहीं कि वे शैक्षणिक संस्थान बड़े ही हों..यह प्रक्रिया छोटे स्कूलों से शुरू होनी चाहिये ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि हम शिक्षा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर हैं।” मौलाना क़ल्बे जवाद ने आगे कहा कि “हिजाब शिक्षा और पेशे सहित ज़िन्दगी न के किसी भी पहलू में बाधक नहीं है।” (Qalbe Jawad statement on Hijab)

क़ल्बे जवाद ने कहा कि “विभिन्न धर्मों को सामाजिक व सार्वजनिक रूप से अपने धार्मिक प्रतीकों का प्रयोग करने की अनुमति है फ़िर देश में मुसलमानों को ऐसा करने से क्यूँ रोका जा रहा है?” उन्होंने माँग की कि “मुस्लिम छात्राओं को हिजाब पहनकर स्कूलों में प्रवेश करने और शिक्षा ग्रहण करने की इज़ाजत दी जाये।” उन्होंने कहा कि “ऐसे ग़ैर ज़रूरी मुद्दों को उठाने के बजाये देश के विकास और साम्प्रदायिक सद्भाव को बढ़ावा दिया जाना चाहिये।” (Qalbe Jawad statement on Hijab)Author: Desh Duniya Todayयह भी पढ़ें- भाजपा नेता पब्लिक को मुफ़्त दिखाना चाहते थे ‘The Kashmir Files’ मूवी, फ़िल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री बोले- यह क्राइम हैVivek Agnihotri called it a crime to show The Kashmir Files for free

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]