क़ुतुब मीनार परिसर में हिन्दू,जैन देवी देवताओं की मूर्तियां स्थापित कर पूजा करने व 27 मन्दिर होने के दावे पर कोर्ट ने केंद्र और ASI से मांगा जवाब-Qutub Minar Controversy

क़ुतुब मीनार परिसर में हिन्दू,जैन देवी देवताओं की मूर्तियां स्थापित कर पूजा करने व 27 मन्दिर होने के दावे पर कोर्ट ने केंद्र और ASI से मांगा जवाब-Qutub Minar Controversy

दिल्ली: 
Qutub Minar Controversy- दिल्ली की एक अदालत ने कुतुब मीनार परिसर में पुनः हिन्दू- जैन देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित करने और क़ुतुब मीनार परिसर में पूजा करने देने का अधिकार देने की माँग करने वाली एक याचिका पर केंद्र व भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग से को जवाब तलब किया। याचिकाकर्ता की तरफ़ से पेश हुए अधिवक्ता विष्णु जैन ने बताया कि “अदालत ने केंद्र सरकार,संस्कृति मंत्रालय के माध्यम से ASI के महानिदेशक,दिल्ली क्षेत्र के पुरातत्व अधीक्षक को नोटिस जारी किया है। (Qutub Minar Controversy)

उन्होंने बताया कि दिसम्बर-2021 में एक मजिस्ट्रेट अदालत ने दीवानी मुक़दमे को ख़ारिज किये जाने को चुनौती दी गई थी जिस पर यह नोटिस जारी किये गये हैं।” इस मामले में अतिरिक्त ज़िला न्यायाधीश पूजा तलवार ने संबंधित अधिकारियों को 11 मई तक जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया है और उसी दिन इस मामले की आगे की सुनवाई होनी है।

बता दें कि इस अपील में दावा किया गया है कि मुहम्मद गौरी के सिपाहसालार क़ुतुबुद्दीन एबक़ ने 27 मन्दिरों को आंशिक रूप से तोड़कर मन्दिरों की सामग्री से ही क़ुतुब मीनार परिसर में क़ुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद का निर्माण कराया था। (Qutub Minar Controversy)

विगत 9 दिसम्बर को मुक़दमा ख़ारिज करते हुए दीवानी अदालत की न्यायाधीश नेहा शर्मा ने कहा था कि “भारत का सांस्कृतिक रूप से अपने आप में एक समृद्ध इतिहास रहा है। इस पर अनेक राजवंशों का शासन रहा है। अतीत की ग़लतियों के चलते फ़िलहाल के मौजूदा समय में शान्ति को भंग करने का आधार नहीं बनाया जा सकता। (Qutub Minar Controversy)

यह भी पढ़ें- ग़रीब लड़की को मिला गहनों से भरा बैग, मालिक को लौटाकर की ईमानदारी की मिसाल पेशGirl returned the found jewelry bag to the owner

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]