Rajasthan News: राजस्थान में बेरोज़गारी से परेशान पिता ने अपने 11 महीने के बच्चे को नहर में फेंककर का मार डाला, कहा बेरोज़गार हूँ खिलाने को कुछ नहीं

Rajasthan News: राजस्थान में बेरोज़गारी से परेशान पिता ने अपने 11 महीने के बच्चे को नहर में फेंककर का मार डाला, कहा बेरोज़गार हूँ खिलाने को कुछ नहीं

जालोर,राजस्थान: Rajasthan News-
गुजरात के माँ-बाप द्वारा नवजात बच्ची को ज़िन्दा ज़मीन में दफ़न करने की घटना के बाद अब राजस्थान के जालोर ज़िले से भी मानवीय संवेदनाओं को झकझोर देने वाली एक ऐसी ख़बर आयी है जो देश में सरकारों के कथित रोज़गार के बढ़ते क़दम के नारों की पोल खोल रही है।

दरअसल राजस्थान जालोर के सांचौर थानाक्षेत्र के सिद्धेश्वर में नर्मदा नहर में एक गुजरात निवासी युवक मुकेश ने अपने 11 माह के बच्चे को इसलिये नहर में फेंककर मार डाला कि बेरोज़गारी के कारण उसके पास खाने के लिये कुछ नहीं रहा।

सांचौर पुलिस के अनुसार “आरोपी मुकेश जो मूल रूप से गुजरात के अहमदाबाद का रहने वाला है। और अपनी पत्नी व एक 11 माह के बच्चे के साथ यहाँ सांचौर में रहता है। युवक मुकेश अपनी बेरोज़गारी के चलते पत्नी को यह कहकर कि बच्चे को दादा-दादी के घर छोड़कर आता है, बच्चे को लेकर घर से निकला था।

लेकिन मुकेश घर से कुछ दूर जाकर बच्चे को नहर में फेंककर घर आ गया। मुकेश अपनी पत्नी को बच्चे के संबंध में कुछ नहीं बता पा रहा था और तरह-तरह के झूठ बोल रहा था। फ़िर कुछ स्थानीय लोगों ने बच्चे की माँ को इस घटना की पूरी बात बता दी, कि मुकेश ने बच्चे को नहर फेंक दिया है।

पड़ोसियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी, सूचना पर तत्काल मौक़े पर पहुँची पुलिस ने जब बड़ी गहनता से पूछताछ की तो आरोपी मुकेश मेघवाल ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया। पुलिस ने मुकेश को गिरफ़्तार कर बच्चे का सर्च अभियान चलाया तो कई किलोमीटर दूर नहर से बच्चे का शव बरामद किया।

जानकरी मुकेश मेघवाल ने 2 वर्ष पहले ही एक बिहार की लड़की के साथ लव मैरिज की थी, और उसने पत्नी को बताया था कि इस शादी से उसके घर वाले बहुत नाराज़ है। इसलिये वह यहाँ अलग रहा है। और इसी बात का हवाला देते हुए मुकेश ने अपनी पत्नी से यहीं गाँव में रुकने की बात कहते हुए अकेले ही बच्चे को उसके दादा-दादी के पास छोड़कर आने की बात कही थी।
यह भी पढ़ें- बिलकिस बानो सामूहिक दुष्कर्म के दोषियों को जेल से छोड़े जाने को अमेरिकी संस्था ‘अन्तर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता आयोग’ ने बताया न्याय के साथ मज़ाकBilkis Rape Case

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]