Rajnath Singh: राजनाथ सिंह ने कहा ‘मैं पण्डित नेहरू की आलोचना नहीं कर सकता..किसी की नीति ख़राब हो सकती है लेकिन नियत नहीं

Rajnath Singh: राजनाथ सिंह ने कहा ‘मैं पण्डित नेहरू की आलोचना नहीं कर सकता..किसी की नीति ख़राब हो सकती है लेकिन नियत नहीं

जम्मू कश्मीर: Rajnath Singh
रक्षामन्त्री राजनाथ ने कहा है कि “भारत की एकता, अखण्डता और सम्प्रभुता को बनाये रखने के लिये हमारे सेना ने जो योगदान दिया है, उसे भारत कभी भूल नहीं सकता। और देश की एकता, अखण्डता और सम्प्रभुता के लिये जिन जवानों ने भी शहादत दी है, मैं उन सभी वीर जवानों की स्मृति में शीश झुकाकर नमन करता हूँ।”

रक्षामन्त्री राजनाथ सिंह आज अपने जम्मू कश्मीर के दौरे पर हैं। राजनाथ सिंह ने जम्मू में ‘कारगिल विजय दिवस’ समारोह में भाग लिया। इस मौक़े पर राजनाथ सिंह ने कहा कि “देश की सेवा के लिये अपने प्राण न्यौछावर करने वाले जवानों को हम याद करते हैं। हमारी सेना ने हमेशा ही देश के लिये यह सर्वोच्च बलिदान दिया है।” (Rajnath Singh)

राजनाथ सिंह ने कहा “1999 के युद्ध में हमारे कई बहादुर सैनिकों ने अपने प्राणों की आहुति दी, मैं उन वीरों को नमन करता हूँ। “रक्षामन्त्री राजनाथ सिंह ने कहा कि “रक्षा के क्षेत्र में भारत आज आत्मनिर्भर हो रहा है। आज भारत जो बोलता है उसे पूरी दुनिया सुनती है।” (Rajnath Singh Statement On Nehru)

इस मौक़े पर राजनाथ सिंह ने देश के प्रथम प्रधानमन्त्री पण्डित जवाहर लाल नेहरू का ज़िक्र करते हुए कहा कि “जब पण्डित नेहरू देश के प्रधानमन्त्री थे तो वर्ष-1962 में चीन ने हमारे लद्दाख क्षेत्र पर क़ब्ज़ा कर लिया था।” लेकिन राजनाथ सिंह ने आगे कहा कि “मैं किसी प्रधानमन्त्री की बुरायी नहीं करता हूँ… मैं पण्डित नेहरु की आलोचना नहीं कर सकता, क्यूँकि किसी की नीति ख़राब हो सकती है, नियत नहीं।” (Rajnath Singh)
यह भी पढ़ें- अब दिन-रात 24 घण्टे फ़हराया जा सकेगा तिरंगा, सरकार ने भारतीय झण्डा संहिता में किया संशोधनNew Flag Code of India

देश दुनिया टुडे के व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ने के लिये आप इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं।

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]