दलित छात्रों ने स्वर्ण के हाथों से बना खाना खाने से किया इंकार,मामला पहुँचा मुख्यमंत्री तक-SC students refuse food cooked by upper caste

दलित छात्रों ने स्वर्ण के हाथों से बना खाना खाने से किया इंकार,मामला पहुँचा मुख्यमंत्री तक-SC students refuse food cooked by upper caste

उत्तराखण्ड: अब तक तो आप और हम ये ही सुनते आ रहे हैं कि स्वर्ण जातियों के लोग दलितों के हाथों का बना खाना तो क्या दलितों के हाथों से परोसा हुआ खाना खाना पसन्द नही करते। लेकिन देवभूमि उत्तराखण्ड राज्य से एक ऐसा मामला प्रकाश में आया है जो इस धारणा के बिलकुल विपरीत है। (SC students refuse food cooked by upper caste)

मीडिया में आ रही ख़बरों के अनुसार उत्तराखण्ड राज्य के चम्पावत जनपद के सुखीखांग राजकीय इण्टर कॉलेज में दलित समुदाय छात्रों ने स्वर्ण के हाथों से बना ‘मिड-डे मील’ खाने से इनकार कर दिया है। दलित छात्रों का कहना है कि “जब स्वर्ण जाति के छात्र अनुसूचित जाति की ‘भोजन’माता’ के द्वारा तैयार भोजन नहीं खा रहे हैं तो फ़िर हम दलित भी ऊँची जाति की ‘भोजन’माता’ के हाथों से बना भोजन नहीं खायेंगे।” (SC students refuse food cooked by upper caste)

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस संबंध में सुखीखांग राजकीय इण्टर कॉलेज’ के प्रधानाचार्य प्रेम सिंह ने खण्ड शिक्षा अधिकारी को लिखे पत्र में यह जानकारी देते हुए बताया गया “कि शुक्रवार को कक्षा-6 से कक्षा-8 के कुल 58 छात्र कालेज पहुँचे और जब इन छात्रों को मिड-मील खाने के लिए बुलाया गया तो इन अनुसूचित जाति के छात्रों ने स्वर्ण जाति की भोजन’ मां द्वारा बनाया हुआ भोजन खाने से इनकार कर दिया।” (SC students refuse food cooked by upper caste)

हालांकि शिक्षकों द्वारा छात्रों को समझाने का भी प्रयास किया गया लेकिन 23 दलित छात्रों ने शुक्रवार को मिड-मील का बहिष्कार रखा। सुखीखांग राजकीय इण्टर कॉलेज में उजपे इस विवाद की जाँच के लिए CO अशोक कुमार और चाल्थी पुलिस चौकी के प्रभारी देवेंद्र बिष्ट सुखीखांग इण्टर कॉलेज पहुँचे तो इस संबंध में एक पक्ष ने पुलिस को शिकायती पत्र भी सौंपा।

जब चम्पावत ज़िले के सुखीखांग इण्टर कॉलेज का यह मामला राज्य के सीएम पुष्कर सिंह धामी के पास पहुँचा तो सीएम ने तत्काल कुमाऊँ के DIG नीलेश आनन्द को सुखीखांग इण्टर कॉलेज के भोजन’माता विवाद की जाँच हेतु निर्देश देते हुए कहा कि “इस (भोजन’माता प्रकरण) के माध्यम से माहौल ख़राब करने का काम किया जा रहा है और जो भी माहौल ख़राब कर रहे हैं उन पर नज़र रखकर कार्यवाही की जाए।”

वहीं इस प्रकरण पर संबंधित पुलिस क्षेत्राधिकारी आर. सी पुरोहित ने कहा कि “पिछले दिनों भी यह मामला सामने आया था जिसके बाद यह मामला कालेज स्तर पर ही शान्त करा दिया गया था।” वहीं सुखीखांग इण्टर कॉलेज के प्राचार्य की तरफ़ से खण्ड शिक्षा अधिकारी को इस संबंध में एक पत्र भेजा गया। अभी इस मामले की जाँच जा रही है। (SC students refuse food cooked by upper caste)

ये भी पढ़ें- राजधानी लखनऊ की गलियों में टहलते तेंदुए से लोगों में दहशतPanic among people due to leopard in Lucknow

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]