Sri Lanka crisis: प्रधानमन्त्री महिन्द्रा राजपक्षे ने दिया पद से त्यागपत्र, पूरे देश में लगाया गया कर्फ़्यू

Sri Lanka crisis: प्रधानमन्त्री महिन्द्रा राजपक्षे ने दिया पद से त्यागपत्र, पूरे देश में लगाया गया कर्फ़्यू

Sri Lanka crisis:
पड़ौसी देश श्रीलंका में अब संकट इतना गहरा गया है, लोगों का हिंसक प्रदर्शन जारी है। इसी बीच प्रधानमन्त्री महिन्द्रा राजपक्षे ने त्यागपत्र दे दिया है। इसके साथ ही पूरे श्रीलंका में तत्काल प्रभाव से कर्फ़्यू लागू किया गया है।

पद से त्यागपत्र से पूर्व महिन्द्रा राजपक्षे ने जनता से संयम बरतने की अपील करने के साथ ही यह भी याद रखने की अपील की कि हिंसा से केवल हिंसा ही बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि “देश में आर्थिक संकट के आर्थिक समाधान की आवश्यकता है जिस के लिये उनकी सरकार प्रतिबद्ध है।” (Sri Lanka crisis)

महिन्द्रा राजपक्षे ने ट्वीट किया कि “श्रीलंका में भावनाओं का जो ज्वार उमड़ रहा है ऐसे में मैं आम जनता से संयम बरतने व यह याद रखने की अपील करता हूँ कि हिंसा से केवल हिंसा फ़ैलेगी। आर्थिक संकट में हमें आर्थिक समाधान की आवश्यकता है जिसे यह प्रशासन हल करने के लिय3 प्रतिबद्ध है।” (Sri Lanka crisis)

वहीं सरकार समर्थक समूहों और संगठनों द्वारा राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के कार्यालय के बाहर प्रदर्शनकारियों पर हमला करने के बाद राजधानी कोलंबो में सेना के जवानों को तैनात किया गया है। इस हमले में कम से कम 23 लोग घायल हो गये हैं। वहीं शुक्रवार को राष्ट्रपति राजपक्षे ने आपातकाल की घोषणा कर दी थी। यह दूसरी बार है जब श्रीलंका में लगभग एक महीने की अवधि में आपातकाल घोषित किया गया। (Sri Lanka crisis)

वर्ष-1948 में ब्रिटेन से आज़ादी मिलने के बाद श्रीलंका अब तक के सब से गम्भीर आर्थिक संकट के दौर से गुज़र रहा है। यह संकट मुख्य रूप से विदेशी मुद्रा की कमी के कारण पैदा हुआ जिस का सीधा सा अर्थ है कि देश मुख्य खाद्य पदार्थों और ईंधन के आयात के लिये भुगतान नहीं कर पा रहा है। 9 अप्रैल से पूरे श्रीलंका में हज़ारों प्रदर्शनकारी सड़कों पर हैं। क्योंकि सरकार के पास आयात के लिये धनराशि समाप्त हो गई है। अब आवश्यक वस्तुओं की क़ीमतें आसमान को छू रही है। (Sri Lanka crisis)
यह भी पढ़ें- पाकिस्तान से आये 800 हिन्दू परिवारों ने भारत में नागरिकता न मिलने के चलते छोड़ना शुरु किया

PAKs Hindu Refugees
सांकेतिक छवि

भारत

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]