UP Madarsas Teaching Period: यूपी सरकार अब मदरसों में बढ़ाने जा रही है पढ़ाई का एक और अतिरिक्त घण्टा, अब 6 घण्टों तक की होगी मदरसा टीचरों की ड्यूटी

UP Madarsas Teaching Period: यूपी सरकार अब मदरसों में बढ़ाने जा रही है पढ़ाई का एक और अतिरिक्त घण्टा, अब 6 घण्टों तक की होगी मदरसा टीचरों की ड्यूटी

लखनऊ: UP Madarsas Teaching Period- यूपी सरकार मदरसों के छात्र-छात्राओं को मौजूदा अल्प संसाधनों से ही बेहतर शिक्षा दिलाने के उद्देश्य से अब मदरसों के शैक्षिक समय में वृद्धि करने जा रही है। इस संबंध में यूपी मदरसा शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष इफ़्तिख़ार अहमद जावेद ने राज्य सरकार से सम्बद्ध सभी मदरसों में 5 की बजाए 6 घण्टे की शिक्षा सुनिश्चित करने के निर्देश जारी किये हैं।UP Madarsas Teaching Period

यूपी सरकार द्वारा मदरसों के शैक्षिक समय में एक घण्टे की वृद्धि करने का मक़सद मदरसों के स्टूडेंट्स को भी अन्य स्कूलों के छात्र-छात्राओं के स्तर पर लाना है। मदरसा बोर्ड का यह आदेश 1 अक्टूबर से लागू होगा, अब नई समय सारणी के अनुसार मदरसा छात्र-छात्राएं सुबह 09:00 बजे से लेकर दोपहर 03:00 बजे तक मदरसों में मदरसा टीचर्स पढ़ाएंगे। (UP Madarsas Teaching Period)

मदरसा शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष इफ़्तिख़ार जावेद ने कहा कि “मदरसा छात्रों को समाज में आगे बढ़ते समय किसी प्रकार की हीन भावना नहीं रखनी चाहिये। मदरसा छात्रों को अपने धार्मिक विषयों के साथ साथ हिन्दी, अंग्रेज़ी, गणित और विज्ञान विषयों सहित सामान्य ज्ञान का भी अच्छा ज्ञान होना चाहिये।” इफ़्तिख़ार जावेद ने कहा कि “हम मदरसों में ऐसे आदर्श छात्र तैयार करना चाहते हैं, जो कि देश के विकास में अपना योगदान दे सकें।”

UP Madarsas Teaching Period

उन्होंने कहा कि “सरकार चाहती है कि, मदरसा शिक्षक नई समय सारणी के अनुसार काम करें, दिन की शुरुआत में सवेरे 90:00 बजे प्रार्थना और राष्ट्रगान होगा, दोपहर 12:00 बजे तक कक्षायें चलेंगी। फ़िर 1200 से 12:30 तक छात्रों व कर्मचारियों के लिये दोपहर का भोजन, उसके बाद फ़िर 3:00 बजे तक कक्षायें लगेंगी, (UP Madarsas Teaching Period)
रिपोर्ट: फ़रहाद पुण्डीर उर्फ़ फ़रमात- सहारनपुर
यह भी पढें- छत्तीसगढ़ के दुर्ग में एक ही परिवार के 4 सदस्यों की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या, कुल्हाड़ी पर मिले फिंगरप्रिंट खोलेंगे हत्यारोपी का राज़Durg Murder of 4 People

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]