UP News: जानिये बक़रीद व काँवड़ यात्रा को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिये क्या कड़े निर्देश?

UP News: जानिये बक़रीद व काँवड़ यात्रा को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिये क्या कड़े निर्देश?

लखनऊ: UP News- उत्तर प्रदेश के मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने कल (बुधवार) राज्य की क़ानून व्यवस्था को लेकर अधिकारियों के साथ एक अहम समीक्षा बैठक की। समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों को कड़े निर्देश देेत हुए कहा कि “बक़रीद, श्रावण मास व काँवड़ यात्रा सहित आगामी सभी त्योहारों के दृष्टिगत सतत सावधान रहना होगा। ग़लत बयानबाज़ी जारी करने वालों के साथ बिना कोई बर्दाश्त किये नीति के साथ पेश आये और समाज का माहौल ख़राब करने का प्रयास करने वाले अराजक तत्वों के साथ पूरी सख़्ती से कार्यवाही की जाये।”

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बक़रीद के त्योहार को लेकर कहा कि “निर्धारित स्थान के इतर कहीं और विशेषकर विवादित स्थानों पर क़ुर्बानी नहीं होनी चाहिये। इसके साथ ही प्रत्येक दशा में यह अवश्य सुनिश्चित करें कि कहीं भी प्रतिबन्धित पशु की क़ुर्बानी न हो।” (UP News)UP News

बता दें कि मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को अपने सरकारी आवास पर वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के ज़रिये सभी ज़ोनल पुलिस महानिरीक्षकों, मण्डलायुक्तों और पुलिस कमिश्नरों के साथ आगामी त्यौहारों जैसे बक़रीद, श्रावण मास, काँवड़ यात्रा, नाग पंचमी और रक्षा बंधन पर्वों के दृष्टिगत राज्य में क़ानून व्यवस्था के सम्बन्ध में समीक्षा बैठक की। (UP News)

समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि “विगत दिनों रमज़ान महीने में अलविदा जुमा की नमाज़ और ईद के अवसर पर धार्मिक कार्यो से कोई यातायात प्रभावित नहीं हुआ। प्रदेश के कई जनपदों में स्थान का अभाव होने पर भी बेहतर समन्वय के साथ पालियों में नमाज़ अदा हुई। सरकार के इस प्रयास की पूरे देश में सराहना हुई है। इस बार भी बक़रीद के अवसर पर हमें यही व्यवस्था लागू रखनी होगी। शान्ति समितियों की बैठक कर लें, मीडिया का सहयोग लें ताकि राज्य में शान्ति व सौहार्द का माहौल बना रहे।” (UP News)

देश दुनिया टुडे की ख़बरों से अपडेट रहने के लिये वेबपेज को सब्सक्राइब करें और व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ इस लिंक पर क्लिक करें 

मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने काँवड़ यात्रा का ज़िक्र करते हुए कहा कि “काँवड़ यात्रा में परम्परागत रूप से नृत्य, गीत, संगीत हिस्सा रहे हैं। ऐसी परिस्थितियों में श्रद्धालुओं का किसी प्रकार से उत्पीड़न बिल्कुल भी न किया जाये। यह सुनिश्चित करें कि DJ, गीत, संगीत आदि की आवाज़ निर्धारित मानकों के अनुरूप ही हो और इस में केवल धार्मिक गीत और भजन ही बजाये जायें। धार्मिक यात्राओं अथवा धार्मिक जुलूसों में अस्त्र-शस्त्रों का प्रदर्शन कतई नहीं होना चाहये। इसलिये ऐसी कोई भी घटना न हो जिस से कि दूसरे धर्मों के लोगों की भावनायेँ आहत हो।” (UP News)

वहीं समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि “यह सुनिश्चित की जाये कि श्रद्धालुओं की आस्था का सम्मान करते हुए काँवड़ यात्रा मार्गों पर कहीं भी खुले में माँस इत्यादि की ख़रीद और बिक्री न हो, साथ ही मार्गों पर स्ट्रीट लाइटों की समुचित सुविधा हो।” मुख्यमन्त्री ने कहा कि गर्मी तेज़ है इसलिये काँवड़ यात्रा मार्गों पर पीने के पानी की भी समुचित व्यवस्था भी करायी जाये।” (UP News)
यह भी पढ़ें- मध्य प्रदेश में उदयपुर के कन्हैया लाल हत्याकाण्ड के विरोध में हिन्दू संगठनों द्वारा मुस्लिमों के विरुद्ध की गई नारेबाज़ी और किया गया हिंसा करने का आह्वानMP News

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]