Vivek Agnihotri boycotted in Europe: यूरोप में हुए अपने विरोध पर ‘The Kashmir Files’ डाइरेक्टर विवेक अग्निहोत्री ने कहा ‘यह मेरा नहीं बल्कि हिन्दुओं और मोदी सरकार का विरोध है’

Vivek Agnihotri boycotted in Europe: यूरोप में हुए अपने विरोध पर ‘The Kashmir Files’ डाइरेक्टर विवेक अग्निहोत्री ने कहा ‘यह मेरा नहीं बल्कि हिन्दुओं और मोदी सरकार का विरोध है’

नई दिल्ली:
‘The Kashmir Files’ के डायरेक्टर विवेक रंजन अग्निहोत्री ने एक वीडियो साझा करते हुए कुछ ऐसा कुछ बड़ा कह दिया जिसकी अब चारों ओर चर्चा हो रही है। और उनका यह वीडियो ख़ूब वायरल भी हो रहा है। उन्होंने अपने एक संबोधन में हिन्दूओं और इस्लामोफोबिया सहित अल्पसंख्यकों का ज़िक्र किया है। दरअसल आजकल विवेक अग्निहोत्री अभी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में हैं, और जहाँ पर उनका एक व्याख्यान होना निर्धारित था। लेकिन आयोजकों द्वारा उनके व्याख्यान को निरस्त कर दिया गया है। (Vivek Agnihotri boycotted in Europe)

इसके बाद विवेक अग्निहोत्री ने एक वीडियो साझा करते हुए अपनी बात सार्वजनिक की है। उन्होंने अपने वीडियो में कहा कि, “जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि मैं अभी यूरोप में हूमेन्यूटी टूर पर हूँ। क्योंकि यूरोप में स्थित कई प्रतिष्ठित संस्थानों ने मुझे अपने कार्यक्रमों में उपस्थिति दर्ज करने के लिये आमन्त्रित किया था। जिस में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, कैंब्रिज यूनिवर्सिटी, ब्रिटिश पार्लियामेंट शामिल हैं। इसके अतिरिक्त जर्मनी व नीदरलैंड से भी मुझे आमन्त्रण आया था। लेकिन कल मेरे साथ एक अनोखी घटना घट गई।” (Vivek Agnihotri boycotted in Europe)

उन्होंने कहा कि “मुझे कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में बुलाया गया था लेकिन जब मैं वहाँ पहुँचा तो मुझे कार्यक्रम का वीडियो रिकॉर्ड करने से ही मना कर दिया गया। अब यह अभिव्यक्ति की आज़ादी पर प्रत्यक्ष तौर पर कुठाराघात है। और यह सब कुछ इसलिये हुआ क्योंकि कुछ पाकिस्तानी व जम्मू कश्मीर के विद्यार्थी विरोध कर रहे थे। यह फासीवादी और नरसंहार को इनकार करने वाले लोग हैं।” उन्होंने कहा कि “यह सब कुछ मेरे साथ इसलिये हुआ.. क्योंकि मैं लोकतन्त्रित प्रणाली के अंतर्गत चयनित मोदी सरकार का समर्थक हूँ। यह वही यूनिवर्सिटी है जहाँ नेता जी सुभाष चन्द्र बोस ने शिक्षा ग्रहण की थी।…” (Vivek Agnihotri boycotted in Europe)

..लेकिन अभी हाल ही में उनकी 150-वीं जयन्ती पर उनके निर्धारित कार्यक्रमों को भी निरस्त कर दिया गया था। क्योंकि उन्हें भी फासीवादी क़रार दिया गया था, और आज मेरे साथ भी एक और अनोखी घटना घटी है। दरअसल मैं आज ऑक्सफोर्ट यूनिवर्सिटी जाने वाला था। यहाँ के लिए यूनियन ने मुझे काफ़ी दिनों पहले आमन्त्रित किया था। लेकिन अब अचानक मुझे बताया गया कि ‘सॉरी इस दिन 2 बुकिंग हो चुकी है, इसलिए हम आपको आगामी 1 जुलाई को आमन्त्रित करेंगे। क्योंकि इस दिन यूनिवर्सिटी का कोई भी विधार्थी यूनिवर्सिटी में नहीं होगा।” उन्होंने कहा कि “ऐसी स्थिति में कोई कार्यक्रम करने का कोई औचित्य ही नहीं रह जाता, क्या यह मेरा बहिष्कार नहीं है?” (Vivek Agnihotri boycotted in Europe)

उन्होंने कहा “नहीं..बिल्कुल भी नहीं, बल्कि यह तो लोकतांत्रिक प्रणाली के तहत चुनी सरकार को निरस्त करना चाह रहे हैं।” उन्होंने कहा “यह लोग हमें फासीवाद क़रार देने का प्रयास कर रहे हैं। अब हिन्दुओं को मारना हिन्दू फोबिक नहीं है? लेकिन सच्चाई पर आधारित कोई भी फ़िल्म बनाना इस्लामोफ़ोबिक हो जाता है?.. लेकिन यें लोग ऐसा करके मेरा बहिष्कार नहीं कर रहे हैं, बल्कि ये तो हिंदुओं का बहिष्कार कर रहे हैं। लोकतन्त्र का बहिष्कार कर रहे हैं।” उन्होंने कहा “आपको एक बात समझनी होगी कि ऑक्सफोर्ड में हिन्दू अल्पसंख्यक है, अब मैं आने वाले दिनों में इसे लेकर क़ानूनी कार्यवाही करने जा रहा हूँ। लिहाज़ा मुझे आप लोगों के समर्थन की ज़रूरत है। आप लोग मेरा समर्थन करें। (Vivek Agnihotri boycotted in Europe)
यह भी पढ़ें- बड़ी ख़बर: ज्ञानवापी मामले से हटाये गये हिन्दू पक्ष के 2 वकील, ज्ञानवापी के पैरोकार जितेंद्र सिंह बिसेन का चौंकाना वाला निर्णय

Gyanvapi Case: ज्ञानवापी मामले से हटाये गये हिन्दू पक्ष के 2 वकील, ज्ञानवापी के पैरोकार जितेंद्र सिंह बिसेन का चौंकाना वाला निर्णय

Author: Desh Duniya Today [Farhad Pundir]